Hindi
Saturday 30th of May 2020
Articles
ارسال پرسش جدید

कर्बला में इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम का बलिदान। (3)

कर्बला में इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम का बलिदान। (3)
करबला की लडा़ई मानव इतिहास कि एक बहुत ही अजीब घटना है। यह सिर्फ एक लडा़ई ही नही बल्कि जिन्दगी के सभी पहलुओ की मार्ग दर्शक भी है। इस लडा़ई की बुनियाद तो ह० मुहम्मद मुस्त्फा़ ...

मौत के बाद बर्ज़ख़ की धरती

मौत के बाद बर्ज़ख़ की धरती
बर्ज़ख़ की धरती के बारे में पवित्र क़ुरआन मजीद में ईर्साद हैः कि जिस दिन समस्त प्रकार लोगों को उठाया जायेगा। (23) मरने के बाद बर्ज़ख़, क़ब्र की धरती है उस क़ब्र में प्रत्येक ...

फ़िदक और हज़रत फ़ातेमा ज़हरा

फ़िदक और हज़रत फ़ातेमा ज़हरा
हमारे पाठकों ने हमसे हज़रत फ़ातेमा ज़हरा (स) और फ़िदक के बारे बहुत से प्रश्न किए हैं जैसे कि फ़िदक का वास्तविक्ता क्या है? और क्या फ़िदक के बारे में सुन्नियों की किताबों में ...

अक़ीलाऐ बनी हाशिम जनाबे ज़ैनब

अक़ीलाऐ बनी हाशिम जनाबे ज़ैनब
जनाबे ज़ैनब व उम्मे कुलसूम हज़रत रसूले ख़ुदा (स.अ.व.व.) और जनाबे ख़दीजतुल कुबरा (स.अ.व.व.) की नवासीयां , हज़रत अबू तालिब (अ.स.) व फ़ात्मा बिन्ते असद (स.अ.व.व.) की पोतियां हज़रत अली (अ.स.) व ...

क़ुरआने मजीद और माली इसलाहात

क़ुरआने मजीद और माली इसलाहात
इक़्तेसादी दुनिया में मालीयात की तन्ज़ीम के दो मरहले होते हैं। एक मरहला पैदावार का होता है और दूसरा सरवत की तक़सीम का और आम तौर से इक़्तेसादी निज़ाम तक़सीम के बारे में बहस ...

क़ुरआने मजीद और विज्ञान

क़ुरआने मजीद और विज्ञान
प्यारे दोस्तों इस में कोई शक नही कि क़ुरआने करीम में विज्ञान की ओर संकेत किये गये है।क़ुरआने करीम में सैकड़ों स्थान पर प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप में विज्ञान की ओर इशारे ...

आमाले लैलतुल रग़ा'ऐब

आमाले लैलतुल रग़ा'ऐब
लैलतुल रग़ा'ऐब - रजब की पहली शबे जुमा (नौचंदी जुमारात) मोहम्मदे मुस्तफ़ा(स.अ) नें फ़रमाया कि :रजब की पहली शबे जुमा से ग़ाफ़्लि ना होना कि इसे फ़रिशते लैलतुल रग़ा'ऐब कहते हैं । ...

शिफ़ाअत का ग़लत मतलब निकालना

शिफ़ाअत का ग़लत मतलब निकालना
 क़यामत के दिन अल्लाह के वलियों की शिफ़ाअत कुछ शर्तों पर डिपेंड है। जिन शर्तों का इसी दुनिया में ह़ासिल करना ज़रूरी है। आयतों और रिवायतों में किसी इंसान या किसी समूह के ...

अमीरुल मोमिनीन अ. स.

अमीरुल मोमिनीन अ. स.
नाम व उपाधियाँ आपका नाम अली व आपके अलक़ाब अमीरुल मोमेनीन, हैदर, कर्रार, कुल्ले ईमान, सिद्दीक़,फ़ारूक़, अत्यादि हैं। माता पिता आपके पिता हज़रतअबुतालिब पुत्र हज़रत अब्दुल ...

दुआ ऐ सहर

दुआ ऐ सहर
ऐ गमो अन्दोह मे मेरी पनाहगाह    या मफज़ई इन्दा कुरबती    يَا مَفْزَعِي عِنْدَ كُرْبَتِيऐ मुश्किलो मे मेरी मदद करने वाले    या ग़ौसी इन्दा शिद्दती    وَ يَا غَوْثِي عِنْدَ ...

जनाबे ज़ैद शहीद

जनाबे ज़ैद शहीद
इमाम सज्जाद (अ.स.) की औलाद में हज़रत इमाम मोहम्मद बाक़िर (अ.स.) के बाद सब से नुमाया हैसियत जनाबे ज़ैद शहीद की है।आप 80 हिजरी में पैदा हुये।121 हिजरी में हश्शाम बिन अब्दुल मलिक से तंग आ ...

हज़रत मासूमा स. का एक संक्षिप्त परिचय।

हज़रत मासूमा स. का एक संक्षिप्त परिचय।
अहलेबैत न्यूज़ एजेंसी अबना: हज़रत मासूमा स. (अ) शियों के सातवें इमाम मूसा काज़िम (अ) की बेटी हैं, उनकी माँ हज़रत नजमा ख़ातून हैं, हज़रत मासूमा स. (अ) पहली ज़ीकाद 173 हिजरी में मदीना ...

हज़रत फ़ातिमा सलामुल्लाह अलैहा की इबादत

हज़रत फ़ातिमा सलामुल्लाह अलैहा की इबादत
ज़रत फ़ातिमा सलामुल्लाह अलैहा रात्री के एक पूरे चरण मे इबादत मे लीन रहती थीं। वह खड़े होकर इतनी नमाज़ें पढ़ती थीं कि उनके पैरों पर सूजन आ जाती थी। सन् 110 हिजरी मे मृत्यु ...

अमीरुल मोमेनीन हज़रत अली अ. और हज़रत ज़हरा की शादी।

अमीरुल मोमेनीन हज़रत अली अ. और हज़रत ज़हरा की शादी।
आज जनाब सैयदा और मौलाए कायनात की शादी की तारीख़ है। यह एक आसमानी मिलन, आत्मा की गहराईयों का एक रिश्ता और ज़िंदगी का एक ऐसा बंधन था जिसकी खुशी ज़मीन पर भी मनाई गई और आसमान पर ...

औलिया ख़ुदा से सहायता मागंना

औलिया ख़ुदा से सहायता मागंना
कमालः वह मन भर दुख़ से अपने से कहने लगा, वाए हो इन मुशरिक व काफ़िर व्यक्तियों व ज़न्दीक़.....पर। कि यह सब आप अपने को एक मुसलमान कहलाते है वाए....हो।मोहम्मदः उस से कहाः किन लोगों ...

वह चीज़े जो रोज़े को बातिल करती है

वह चीज़े जो रोज़े को बातिल करती है
1581. चन्द चीज़ें रोज़े को बातिल कर देती हैः-1. खाना और पीना।2. जिमाअ करना।3. इस्तेम्ना- यानी इंसान अपने साथ या किसी दूसरे के साथ जिमाअ के अलावा ऐसा फ़ेल करे जिसके नतीजे में मनी ...

हज़रत अली अलैहिस्सलाम का शुभ जन्म दिवस।

हज़रत अली अलैहिस्सलाम का शुभ जन्म दिवस।
अहलेबैत न्यूज़ एजेंसी अबना: शेख मुफीद ने लिखा है कि अमीरुल मोमिनीन हज़रत अली अलैहिस्सलाम मक्के में मस्जिदुल हराम के अंदर जुमे के दिन 13 रजब को पैदा हुए आपके अलावा न कोई और ...

मुस्लिम बिन अक़ील अलैहिस्सलाम

मुस्लिम बिन अक़ील अलैहिस्सलाम
मोहर्रम का दुखद: महीना वह महीना है जिसमें ख़ून ने तलवार पर विजय प्राप्त की। यह महीना पैग़म्बरे इस्लाम के प्राण प्रिय पौत्र हज़रत इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम के एतिहासिक ...

मस्जिदे मुकद्दसे जमकरान

मस्जिदे मुकद्दसे जमकरान
बिस्मिल्ला हिर्रहमा निर्रहीम वह मक़ामात जो हजरत इमाम महदी अलैहिस्सलाम की तवज्जोह का मरकज़ रहे हैं उनमें से एक मस्जिदे जमकरान भी है। यह मस्जिद चूँकि जमकरान नामक गाँव के ...

सलाह व मशवरा

सलाह व मशवरा
कामों में दूसरों से मशवरा करो।समाजी तरक़्क़ी का एक पहलू मशवरा करना है। मशवरा यानी मिलकर फ़िक्र करना। इसमें कोई शक नही है कि जो लोग मशवरा करते हैं, उनमें अक़्ल व फ़िक्र ...