Hindi
Monday 13th of July 2020
  1029
  0
  0

अशीष मे फ़िज़ूलख़र्ची अपव्यय है 2

अशीष मे फ़िज़ूलख़र्ची अपव्यय है 2

लेखक: आयतुल्लाह हुसैन अनसारियान

किताब का नाम: तोबा आग़ोश

इस से पूर्व कुरआन के एक छंद मे बताया था कि फ़िज़ूलख़र्च और लोभ करते हुए हक़ का भुगतान नकरें, क्योकि फ़िज़ूलख़र्च करने (उड़ाने) वाले व्यक्ति को ईश्वर पसंद नही करता है।

लोगो पर अत्यचार, उनके हक़ की लूटमार, समाज को भयभीत और लोगो को बंधक करने हेतु जो लोग अपने पद, स्थान और प्राधिकार का प्रयोग करते है उनके लिए पवित्र क़ुरआन कहता हैः

وَإِنَّ فِرْعَوْنَ لَعَال فِي الاْرْضِ وَإِنَّهُ لَمِنَ المُسْرِفِينَ

वइन्ना फ़िरौना लआलिन फ़िलअर्ज़े वइन्नहु लमिनल मुसरिफ़ीन[1]

और निश्चित रूप से फ़िरौन पृथ्वी पर विद्रोही था, और वह अपव्यय करने वालो मे है।

जिस व्यक्ति के पास आत्म शुचिता (इफ़्फ़ते नफ़्स) नही है, और अपने को अवैध उत्तेजनाओ से नही बचाता, भौतिक एंव शारीरिक आनंद के अलावा किसी ओर प्रकार के आनंद को नही जानता, और हर प्रकार का हमला (तजावुज़) करता है, संदूषण लुच्चेपन एंव यौन वृत्ति से नही बचता ऐसे लोगो के लिए क़ुरआन कहता हैः

إِنَّكُمْ لَتَأْتُونَ الرِّجَالَ شَهْوَةً مِن دُونِ النِّسَاءِ بَلْ أَنْتُمْ قَوْمٌ مُسْرِفُونَ

इन्नकुम लतअतूनर्रिजाला शहवतम्मिन दूनिन निसाइ बल अनतुम क़ौमुम्मुसरिफ़ून[2]

महान पैगंम्बर लूत ने अपनी क़ौम से कहाः कि तुम लोग स्त्रियो को छोड़कर पुरूषो से यौन सम्बंध बनाते हो, हाँ तुम एक अपव्यय समाज हो।



[1] सुरए युनुस 10, आयत 83

[2] सुरए आराफ़ 7, आयत 71

  1029
  0
  0
امتیاز شما به این مطلب ؟

latest article

    अफ़ग़ानिस्तान में तीन खरब डाॅलर की ...
    सुप्रीम लीडर आयतुल्लाह ख़ामेनई ने की ...
    कूश्नर की मध्यपूर्व की दो यात्राएं, ...
    वार्सा बैठक और अमरीका की विफल ईरान ...
    सुन्नत अल्लाह की किताब से
    ब्रेक्ज़िट पर यूरोप एक रुख अपनाएगा
    क़ुरआन के मराकिज़
    इस्लाम में पड़ोसी अधिकार
    क्या वेनेज़ुएला में विद्रोह हो गया?
    तेहरान, स्वीट्ज़रलैंड के दूतावास के ...

 
user comment