Hindi
Sunday 28th of February 2021
99
0
نفر 0
0% این مطلب را پسندیده اند

आव्रत्ति और नेमत की भयावहता

आव्रत्ति और नेमत की भयावहता

लेखक: आयतुल्लाह हुसैन अनसारियान

 

किताब का नाम: तोबा आग़ोशे रहमत

 

आकाश और पृथ्वी की तमाम चीज़े आदमी की सेवा करने के लिए है। सूर्य, चंद्रमा, तारे, अंतरिक्ष मे दर्शनीय एवम अदृश्य प्राणि सब के सब हज़रते हक़ (परमेश्वर) के इरादे व इच्छा से मनुष्य को लाभ पहुचाने के पथ पर है।

पर्वत, रेगिस्तान, समुद्र, वन, बाग़, उद्यान, फ़व्वारे, नदीया, पशु और पृथ्वी के प्रत्येक जीव मे से मानव जीवन की गतिविधियो की स्थापना मे लगा है।

पूर्ण और व्यापक रूप से फैली हुई नेमते इलाही मनुष्य को प्रेम से गले लगाये हुए है, जिस प्रकार एक दयालु नर्स इस जीव के विकास हेतु प्रेम और सहानुभूतिपूर्ण प्रयास करती है।

प्रकट और गुप्त, ज़ाहिर व बातिनी नेमतो मे से जिसकी आदमी को जीवन तालीका के आधार पर आवश्यकता है, व्यापक रूप से फैली हुई नेमतो मे कोई कमी नही है।

क़ुरआने करीम इस संबंध मे बयान करता है:

ألَمْ تَرَوْا أَنَّ اللَّهَ سَخَّرَ لَكُم مَا فِي السَّماوَاتِ وَمَا في الاْرْضِ وَأَسْبَغَ عَلَيْكُمْ نِعَمَهُ ظَاهِرَةً وَبَاطِنَةً . . .(सूरा 31, आयत 20)

क्या तुम नही देखते कि अल्लाह ने जो भी आकाश और पृथ्वी मे बनाया उसे तुम्हारे क़बज़े मे दे दिया, प्रकट और गुप्त नेमतो को तुम्हारे लिए पूर्ण और व्यारक रूप से फ़ैलाने के अलावा बढा दिया...?

जारी

99
0
0% (نفر 0)
 
نظر شما در مورد این مطلب ؟
 
امتیاز شما به این مطلب ؟
اشتراک گذاری در شبکه های اجتماعی:

latest article

इमाम हुसैन अ. के कितने भाई कर्बला में ...
शोहदाए बद्र व ओहद और शोहदाए कर्बला
माहे ज़ीक़ाद के इतवार के दिन की नमाज़
ईरान में रसूल स. और नवासए रसूल स. के ग़म ...
साजेदीन की शान इमामे सज्जाद ...
पैग़म्बरे इस्लाम (स.) के वालदैन
नहजुल बलाग़ा में हज़रत अली के विचार
इमामे हुसैन (अ)
40 साल से कम उम्र के अफ़ग़ानियों को हज ...
अज़ादारी और इसका फ़लसफ़ा

 
user comment