Hindi
Saturday 21st of July 2018
Masoumeen
ارسال پرسش جدید

उलूमे क़ुरआन का परिचय

उलूमे क़ुरआन का परिचय
क़ुरआने करीम ज्ञान पर आधारित एक आदर्श किताब है।परन्तु इसके भाव हर इंसान नही समझ सकता। जब कि क़ुरआन अपने आश्य को समझाने के लिए बार बार एलान कर रहा है कि बुद्धि से काम क्यों ...

इमाम अली की ख़ामोशी

इमाम अली की ख़ामोशी
आज हम इस विषय पर चर्चा करेंगे कि जब खि़लाफ़त इमाम अ़ली का हक़ था तो क्यु आपने पैग़म्बर के स्वर्गवास के बाद अपने हक़ को अबूबकर, उस्मान या उमर से लेने की कोशिश नहीं की?इस सवाल के ...

इमाम हसन अ स की हदीसे

इमाम हसन अ स की हदीसे
इल्म हासिल करो और अगर उसे याद न कर सको तो लिख लो और अपने घरो मे महफूज़ रखो।هَلاكُ الْمَرْءِ فى ثَلاث: اَلْكِبْرُ، وَالْحِرْصُ، وَالْحَسَدُ; فَالْكِبْرُ هَلاكُ الدّينِ،، وَبِهِ لُعِنَ إبْليسُ. وَالْحِرْصُ عَدُوّ ...

आलमे बरज़ख़

आलमे बरज़ख़
हमारा अक़ीदह है कि इस दुनिया और आख़ेरत के बीच एक और जहान है जिसे “बरज़ख़” कहते हैं।मरने के बाद हर इँसान की रूह क़ियामत तक इसी आलमे बरज़ख़ में रहती है।“व मिन वराइहिम ...

स्वयं को पहचानें किंतु क्यों?

स्वयं को पहचानें किंतु क्यों?
पिछली चर्चा में हमने जाना कि प्रत्येक मनुष्य में प्रगति की चाहत होती है और वह स्वाभाविक रुप से अपनी कमियों को छिपाने का प्रयास करता है प्रगति की स्वाहाविक चाहत को यदि सही ...

संभव वस्तु और कारक

संभव वस्तु और कारक
हर निर्भर अस्तित्व या संभव अस्तित्व को कारक की आवश्यकता होती है और इस इस सिद्धान्त से कोई भी अस्तित्व बाहर नहीं है किंतु चूंकि ईश्वर का अस्तित्व इस प्रकार का अर्थात संभव व ...

हज़रत इमाम सज्जाद अ.स.

हज़रत इमाम सज्जाद अ.स.
नाम व उपाधियाँहज़रत इमाम सज्जाद अलैहिस्सलाम का नाम अली व आपकी मुख्य उपाधियां सज्जाद व ज़ैनुल आबेदीन हैं। सज्जाद अर्थात अत्यअधिक सजदे करने वाला। ज़ैनुल आबेदीन अर्थात ...

शब्दकोष में शिया के अर्थः

शब्दकोष में शिया के अर्थः
अरबी शब्दकोषों में शिया शब्द, किसी एक व्यक्ति या अनेक व्यक्तियों का किसी दूसरे का अनुसरण और आज्ञापालन करना, किसी की सहायता व समर्थन करना, तथा कथन या क्रिया में समझौते व ...

जनाबे फ़ातेमा ज़हरा के दफ़्न के मौक़े पर इमाम अली का खुत्बा

जनाबे फ़ातेमा ज़हरा के दफ़्न के मौक़े पर इमाम अली का खुत्बा
इमाम अली ने ये कलेमात सैय्यदतुन निसाइल आलमीन फ़ातेमा ज़हरा (स0) के दफ़्न के मौक़े पर पैग़म्बरे इस्लाम (स0) से राज़दाराना गुफ़्तगू के अन्दाज़ मे कहे  थे। सलाम हो आप पर ऐ ख़ुदा के ...

तरकीबे नमाज़

तरकीबे नमाज़
अक़ामत के बाद सीधा खड़ा हो क़िब्ला की तरफ़ मुंह करके और इस तरह नियत करें नमाज़ पढ़ता हूँ मैं (जैसे) सुबह की दो रकअत वाजिब क़ुर्बतन इलल्लाह इसके साथ ही तकबीर कहें यानी ...

हज़रत अली द्वारा किये गये सुधार

हज़रत अली द्वारा किये गये सुधार
अपने पाँच वर्षीय शासन काल मे विभिन्न युद्धों, विद्रोहों, षड़यन्त्रों, कठिनाईयों व समाज मे फैली विमुख्ताओं का सामना करते हुए हज़रतअली ने तीन क्षेत्रो मे सुधार किये जो ...

इमाम तक़ी अलैहिस्सलाम की अहादीस

इमाम तक़ी अलैहिस्सलाम की अहादीस
यहां पर अपने प्रियः अध्ययन कर्ताओं के अध्ययन हेतू हज़रत इमाम तक़ी अलैहिस्सलाम के चालीस मार्ग दर्शक कथन प्रस्तुत किये जारहे है।1-मोमिन की तीन अवश्यक्ताऐंहज़रत इमाम तक़ी ...

इमाम तक़ी अ.स. का एक मुनाज़ेरा

इमाम तक़ी अ.स. का एक मुनाज़ेरा
इमाम रज़ा अ.स. को शहीद करने के बाद मामून चाहता था कि किसी तरह से इमाम तक़ी अ.स. पर भी नज़र रखे और इस काम के लिये उसने अपनी बेटी उम्मे फ़ज़्ल का निकाह इमाम तक़ी  से करना चाहा।इस बात पर ...

हज़रत फ़ातेमा ज़हरा (स) के फ़ज़ायल

हज़रत फ़ातेमा ज़हरा (स) के फ़ज़ायल
हज़रत फ़ातेमा ज़हरा (स) और मवद्दतहज़रत फ़ातेमा ज़हरा(स) उन हज़रात में से हैं जिनकी मवद्दत और मुहब्बत तमाम मुसलमानों पर वाजिब की गई है जैसा कि ख़ुदा वंदे आलम ने फ़रमाया:आयत ...

जनाबे ज़हरा(स)की सवानेहे हयात

जनाबे ज़हरा(स)की सवानेहे हयात
अल्लाह तबारक व तआला ने तमाम आलमें इंसानियत के रुश्द व हिदायत के लिये इस्लाम में कई ऐसी हस्तियों को पैदा किया जिन्होने अपने आदात व अतवार, ज़ोहद व तक़वा, पाकीज़गी व इंकेसारी, ...

अब्बासी हुकूमत का, इमाम हसन असकरी अ.स. से डरने का कारण

अब्बासी हुकूमत का, इमाम हसन असकरी अ.स. से डरने का कारण
यह बात हम सभी जानते हैं कि बनी अब्बास ने अहलेबैत अ.स. के नाम पर बनी उमय्या का तख़्ता पलटते हुए यही कहा था कि हुकूमत और ख़िलाफ़त पैग़म्बर स.अ. के अहलेबैत अ.स. का हक़ है, लेकिन बनी ...

इमाम को आदर्श बनाना

इमाम को आदर्श बनाना
जब इमाम (अस) की सही पहचान हो जायेगी और उनके खुबसूरत जलवे हमारी नज़रों के सामने होंगे तो उस कमाल ज़ाहिर करने वाली उस ज़ात को नमूना व आदर्श बनाने की बात आयेगी।पैग़म्बरे इस्लाम ...

आइम्मा का इल्म पैग़म्बर का इल्म है।

आइम्मा का इल्म पैग़म्बर का इल्म है।
मुतावातिर रिवायात की बिना पर पैग़म्बरे इस्लाम (स.)ने क़ुरआन व अहलेबैत अलैहिमुस् सलाम के बारे में हमें जो हुक्म दिया हैं कि इन दोंनों के दामन से वाबस्ता रहना ताकि हिदायत पर ...

ईरान में हर्षोल्लास पूर्वक मनाया गया हज़रत मोहम्मद मुस्तफ़ा स. और इमाम जाफ़र सादिक़ अ. का जन्मोत्सव

ईरान में हर्षोल्लास पूर्वक मनाया गया हज़रत मोहम्मद मुस्तफ़ा स. और इमाम जाफ़र सादिक़ अ. का जन्मोत्सव
अहलेबैत (अ )न्यूज़ एजेंसी अबना : प्राप्त सूत्रों के अनुसार ईरान के सभी छोटे बड़े शहरों में हज़रत मोहम्मद मुस्तफ़ा स. और इमाम जाफ़र सादिक़ अलै. का जन्म उत्सव हर्षोल्लास ...

शाह अब्दुल अज़ीम हसनी

शाह अब्दुल अज़ीम हसनी
आपका नामआपका नाम अब्दुल अज़ीम था। कुन्नीयत (उपनाम)आपकी कुन्नीयत अबुलक़ासिम और अबुलफतह थी । पिताशाह अब्दुल अज़ीम हसनी के पिता अब्दुल्ला इब्ने अली इब्ने हसन बिन ज़ैद ...