Hindi
Monday 18th of February 2019
Articles
ارسال پرسش جدید

अफ़ग़ानिस्तान से अमरीकी सैनिकों की वापसी

अफ़ग़ानिस्तान से अमरीकी सैनिकों की वापसी
अमरीका के राष्ट्रपति बाराक ओबामा ने देश की जनता को वचन दिया है कि अफ़ग़ानिस्तान से अमरीकी सैनिकों की वापसी आरंभ होगी। ओबामा ने कहा कि जुलाई महीने से दस हज़ार सैनिकों की ...

इस्लामी क्रांति का दूसरा अहम क़दम, युवा उठाएंः वरिष्ठ नेता

इस्लामी क्रांति का दूसरा अहम क़दम, युवा उठाएंः वरिष्ठ नेता
इस्लामी क्रांति के वरिष्ठ नेता ने इस्लामी क्रांति की सफलता की चालीसवीं वर्षगांठ के उपलक्ष्य में एक अहम बयान जारी किया है। इस्लामी क्रांति की सफलता की चालीसवीं वर्षगांठ ...

अल्लाह तआला ने हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स. को हमारे लिए आइडियल क्यूं बनाया है?

अल्लाह तआला ने हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स. को हमारे लिए आइडियल क्यूं बनाया है?
हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स. की फ़ज़ीलत व मरतबे को बयान करना इन्सान के बस में नहीं है। अगर कोई उनके मरतबे को देखना चाहता है तो उसे देखना चाहिए कि ख़ुदा और उसके रसूल की नज़र में आपका ...

हज़रत फ़ातेमा ज़हरा का मरसिया

हज़रत फ़ातेमा ज़हरा का मरसिया
हज़रत फ़ातेमा ज़हरा पर दुखों के पहाड़ कब से टूटना आरम्भ हुए इसके बारे में यही कहा जा सकता है कि जैसे ही पैग़म्बरे इस्लाम ने इस संसार से अपनी आखें मूंदी, मुसीबतें आना आरम्भ ...

हज़रत मोहसिन की शहादत

हज़रत मोहसिन की शहादत
शिया और सुन्नी स्रोतों में मौजूद ऐतिहासिक दस्तावेज़ों से पता चलता है कि हज़रत मोहसिन इमाम अली (अ.) और हज़रत फ़ातेमा ज़हरा (स.) की संतान थे जो दूसरे ख़लीफ़ा उमर या क़ुनफ़ुज़ ...

रसूले अकरम की इकलौती बेटी

रसूले अकरम की इकलौती बेटी
मुनाक़िब इब्ने शहर आशोब में है कि जनाबे ख़दीजा के साथ जब आं हज़रत (स.अ.व.व) की शादी हुई तो आप बाकरह थीं। यह तसलीम शुदा अमर है कि क़ासिम अब्दुल्ला यानी तैय्यब व ताहिर और फातेमा ...

चाँद और सूरज की शादी

चाँद और सूरज की शादी
दूसरी हिजरी क़मरी के ज़िलहिज महीने की पहली तारीख़ को इमाम अली और हज़रत फ़ातेमा का विवाह बहुत ही साधारण ढंग से संपन्न हुआ। हालांकि यह एक साधारण सा विवाह था किंतु आने वाली ...

जनाबे ज़हरा(अ)के गले की माला

जनाबे ज़हरा(अ)के गले की माला
एक दिन हज़रत पैगम्बर(स.) अपने मित्रों के साथ मस्जिद मे बैठे हुए थे उसी समय एक व्यक्ति वहाँ पर आया जिसके कपड़े फ़टे हुए थे तथा उस के चेहरे से दरिद्रता प्रकट थी। वृद्धावस्था के ...

बहरैन में प्रदर्शन

बहरैन में प्रदर्शन
बहरैन के १४ फ़रवरी के क्रांतिकारी गठबंधन की मांग पर आज व्यापक स्तर पर देशव्यापी प्रदर्शन किये जा रहे हैं। यह एसी स्थिति में है कि जब पिछले कुछ दिनों के दौरान बहरैन वासियों ...

संघर्ष जारी रखने की बहरैनी जनता की मांग

संघर्ष जारी रखने की बहरैनी जनता की मांग
बहरैनी जनता आले ख़लीफ़ा के तानाशाही शासन के विरुद्ध संघर्ष जारी रखते हुए सात जुलाई को भविष्य निर्धारण अधिकार के नारे के साथ फिर सड़कों पर आ रही है।   बहरैनी जनता आले ...

आयतुल्ला ख़ुमैनी की द्रष्टि से हज़रत फ़ातेमा ज़हरा सलामुल्लाह अलैहा

आयतुल्ला ख़ुमैनी की द्रष्टि से हज़रत फ़ातेमा ज़हरा सलामुल्लाह अलैहा
हजरत इमाम ख़ुमैनी कहते हैं.बीबी फ़ातिमा मानव जीवन और इस दुनिया के लिऐ गर्व और गौरव है। आप ऐसी लेडी हैं जो ख़ानदाने वहि के लिऐ गर्व और सम्मान का कारण हैं सूरज की तरह इस्लामी ...

अबूसब्र और अबूक़ीर की कथा-6

अबूसब्र और अबूक़ीर की कथा-6
हमने आपको यह बताया था कि इस्कंदरिया शहर में एक रंगरेज़ और एक नाई रहते थे। उनका नाम अबू क़ीर और अबू सब्र था। वे आपस में दोस्त थे। वे दोनों रोज़ी की तलाश में दूसरे शहर जाते हैं ...

नक़ली खलीफा

नक़ली खलीफा
एक रात को हारून रशीद ने अपने मंत्री जाफर बरमकी को बुलाया और उससे कहा जाफर आज रात मैं थका हूं और मैं महल से बाहर चलना चाहता हूं और बग़दाद की गलियों में टहलना चाहता हूं। आओ हम ...

सिन्दबाद की कथा

सिन्दबाद की कथा
फार्स में सिन्दबाद नाम का एक राजा रहता था। उसके पास प्रशिक्षित बाज़ एक बाज़ था जिसे वह बहुत चाहता था और उसे अपने से अलग नहीं करता था। सिन्दबाद के आदेश से बाज़ की गर्दन में ...

नक़ली खलीफा 3

नक़ली खलीफा 3
निकलने का इरादा किया ताकि लोगों के हालात से अवगत हो सके। जब वे दजला नदी पर पहुंचे तो उन्होंने एक नाविक से कहा कि उन्हें दजला की सैर कराए। बूढ़े आदमी ने उनसे कहा कि यह घूमने ...

घर परिवार और बच्चे

घर परिवार और बच्चे
मनोवैज्ञानिकों का मानना है कि नाम का इंसान के व्यक्तित्व और व्यवहार पर गहरा प्रभाव पड़ता है और इससे इंसान के मन में ख़ुद अपने बारे में एक सोच पनपती है। यह एक ऐसा विषय है कि ...

इस्लाम का मक़सद अल्लामा इक़बाल के कलम से

इस्लाम का मक़सद अल्लामा इक़बाल के कलम से
इक फ़क़्र सिखाता है सय्याद को नख़्चीरी इक फ़क़्र से खुलते हैं असरार-ए-जहाँगीरी इक फ़क़्र से क़ौमों में मिस्कीनी-ओ-दिलगीरी इक फ़क़्र से मिटटी में खासीयत-ए-अक्सीरी इक फ़क़्र है शब्बीरी ...

लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी

लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी
लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी ज़िंदगी शम्अ की सूरत हो ख़ुदाया मेरी! दूर दुनिया का मेरे दम से अँधेरा हो जाए! हर जगह मेरे चमकने से उजाला हो जाए! हो मेरे दम से यूँही मेरे ...

किस शेर की आमद है कि रन काँप रहा है

किस शेर की आमद है कि रन काँप रहा है
किस शेर की आमद है कि रन काँप रहा है रुस्तम का जिगर ज़ेर-ए-कफ़न काँप रहा है हर क़स्र-ए-सलातीन-ए-ज़मन काँप रहा है सब एक तरफ़ चर्ख़-ए-कुहन काँप रहा है शमशीर-बकफ़ देख के हैदर के पिसर ...

माहे रजब की दुआऐं

माहे रजब की दुआऐं
माहे रजब की दुआऐं रजब के पहले दिन और रात की मख्सूस दुआ 1) हज़ूरे अकरम (स:अ:व:व) की सीरत थी की जब रजब का चाँद देखते थे तो यह दुआ पढ़ते थे: اَللّٰھُمَّ بَارِکْ لَنٰا فِی رَجَبٍ وَ شَعْبانَ وَ ...