Hindi
Saturday 17th of August 2019
  80
  0
  0

वेनेज़ोएला में निर्वाचित राष्ट्रपति के ख़िलाफ़ अमरीका की ज़ोर आज़माई

वेनेज़ोएला में निर्वाचित राष्ट्रपति के ख़िलाफ़ अमरीका की ज़ोर आज़माई

वेनेज़ोएला के ख़िलाफ़ अमरीका की साज़िश इतनी शर्मनाक है कि दुनिया भर में इसकी आलोचना की जा रही है।

कुछ देशों ने अमरीका का साथ भी दिया है लेकिन ईरान, तुर्क, रूस और चीन सहित अनेक देशों ने अमरीका को चेतावनी दी है कि वह वेनेज़ोएला में हस्तक्षेप बंद करे।

वेनेज़ोएला के अपदस्थ संसद सभापति ख़्वान ग्वाइडो ने बुधवार को ख़ुद को देश का राष्ट्रपति घोषित कर दिया और अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रम्प ने तत्काल एक बयान जारी करके ग्वाइडो को वेनेज़ोएला के अंतरिम राष्ट्रपति के रूप में मान्यती भी दे दी। अमरीका ने कहा है कि वह वेनेज़ोएला में लोकतंत्र की स्थापना करने के लिए हर प्रकार के आर्थिक और कूटनैतिक साधन प्रयोग करेगा।

अमरीकी सरकार वेनेज़ोएला के ख़िलाफ़ सैनिक कार्यवाही के भी संकेत दे रही है।

वेनेज़ोएला के राष्ट्रपति निकोलस मादोरो ने कहा है कि वह अमरीका की साज़िश का डट कर मुक़ाबला करेंगे। उन्होंने अपने ट्वीटर हैंडल पर लिखा कि अब भी बग़ावत का ख़तरा मौजूद है मैं देश की जनता से अपील करता हूं कि साहस का परिचय दें, सड़कों पर डटे रहें, वेनेज़ोएला शांति चाहता है, विदेशी हस्तक्षेप और बग़ावत को हरगिज़ सहन नहीं करेगा।

वेनेज़ोएला की सेना ने भी एलान किया है कि वह देश के क़ानूनी राष्ट्रपति निकोलस मादोरो के साथ है। इस तरह अमरीका और उसके एजेंटों के लिए वेनेज़ोएला में अपनी साजिश पर अमल कर पाना बहुत कठिन हो गया है। वेनेज़ोएला के रक्षा मंत्री व्लादमीर पारडीनो ने एक बयान जारी करके कहा कि देश की सेना ख्वान गाइडो को देश का राष्ट्रपति नहीं मानती, देश के क़ानूनी राष्ट्रपति निकोलस मादोरो हैं और विद्रोही देश में बग़ावत करने की कोशिश कर रहे हैं जिसे कामयाब नहीं होने दिया जाएगा।

वेनेज़ोएला के राष्ट्रपति को रूस, चीन, ईरान, तुर्की, क्यूबा, बोलीविया और मैक्सिको का समर्थन मिला है। रूस के राष्ट्रपति व्लादमीर पुतीन और तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब अर्दोग़ान ने वेनेज़ोएला के राष्ट्रपति से फ़ोन पर बात की और उन्होंने अपने समर्थन का यक़ीन दिलाया। चीन ने अमरीका से कहा कि वह ख़ुद को वेनेज़ोएला के संकट से दूर रखे इस देश में हस्तक्षेप की कोशिश न करे।

वेनेज़ोएला के हालात ने एक बार फिर साबित कर दिया कि अमरीका, कैनेडा और फ़्रांस सहित अनेक पश्चिमी देश जो लोकतंत्र का ढकोसला करते नहीं थकते किसी भी देश में अपने स्वार्थों के लिए लोकतंत्र की हत्या करने में एक क्षण के लिए भी नहीं हिचकचाते।

  80
  0
  0
امتیاز شما به این مطلب ؟

latest article

      विश्व मज़दूस दिवसः सो जाते हैं ...
      पत्रकारों के ख़िलाफ़ इस्राईल के ...
      इराक़ी धर्मगुरु और नेता के बयान से ...
      आयतुल्लाह ज़कज़की के संबंध में ...
      फ़्रांस पूंजीवादी व्यवस्था के ...
      अफ़ग़ानिस्तान में शांति के लिए ...
      श्रीलंका में होटलों और गिरजाघरों में ...
      भारत ने किया एमीसैट, 28 विदेशी उपग्रहों ...
      इस्राईली कार्यवाहियों का कोई कानूनी ...
      किस हद तक गिरती जा रही हैं सरकारें?!

 
user comment