Hindi
Saturday 19th of January 2019
  39
  0
  0

लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी

लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी

लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी

ज़िंदगी शम्अ की सूरत हो ख़ुदाया मेरी!


दूर दुनिया का मेरे दम से अँधेरा हो जाए!

हर जगह मेरे चमकने से उजाला हो जाए!


हो मेरे दम से यूँही मेरे वतन की ज़ीनत

जिस तरह फूल से होती है चमन की ज़ीनत


ज़िंदगी हो मिरी परवाने की सूरत या-रब

इल्म की शम्अ से हो मुझ को मोहब्बत या-रब


हो मिरा काम ग़रीबों की हिमायत करना

दर्द-मंदों से ज़ईफ़ों से मोहब्बत करना


मेरे अल्लाह! बुराई से बचाना मुझ को

नेक जो राह हो उस रह पे चलाना मुझ को

  39
  0
  0
امتیاز شما به این مطلب ؟

latest article

      अबूसब्र और अबूक़ीर की कथा-6
      नक़ली खलीफा
      सिन्दबाद की कथा
      नक़ली खलीफा 3
      घर परिवार और बच्चे
      इस्लाम का मक़सद अल्लामा इक़बाल के कलम ...
      लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी
      किस शेर की आमद है कि रन काँप रहा है
      माहे रजब की दुआऐं
      जौशन सग़ीर का तर्जमा

 
user comment