Hindi
Friday 21st of February 2020
  1384
  0
  0

सब लोग मासूम क्यों नहीं हैं?


सब लोग मासूम क्यों नहीं हैं?
ग़ज़ाली एहयाउल क़ुलूब के रजा (आशा) के भाग में लिखते हैं कि इब्राहीम अदहम का कहना है कि एक बार रात के समय मैं ख़ुदा के घर काबे का तवाफ़ कर रहा था, और उस समय मेरे अतिरिक्त कोई और ख़ुदा के घर का तवाफ़ करने वाला नही था। उस समय मैं अकेला था।

तब मैने काबे के ग़िलाफ़ (वह पर्दा जिससे काबा ढका रहता है) को पकड़ कर ईश्वर से दुआ मांगी कि मुझे पापों से बचने के लिए इस्मत दे दे, ख़ुदा मुझे मासूम बना दे ताकि मैं कोई गुनाह ना कर सकूँ।

यकायक एक आवाज़ आईः हे इब्राहीम तू इस्मत चाहता है, मेरी बाक़ी सृष्टि भी इस्मत चाहती है

فاذا اعصمتھم فعلی من اتفضل و لمن اغفر

अगर मैं सबके मासूम बना दूँ तो मैं रहम किस पर करूँगा और क्षमा किस को करूँगा।

 


source : tvshia.com
  1384
  0
  0
امتیاز شما به این مطلب ؟

latest article

    ईरान ने की बान की मून से म्यान्मार में ...
    इस्राईल का रासायनिक व जैविक हथियारों ...
    इस्लामी क्रांति के सर्वोच्च धार्मिक ...
    लेबनान में नयी सरकार के गठन का स्वागत
    नक़ली खलीफा 2
    नक़ली खलीफा 4
    नकली खलीफा 5
    मौत की आग़ोश में जब थक के सो जाती है माँ
    सहीफ़ए सज्जादिया का परिचय
    आयतल कुर्सी का तर्जमा

 
user comment