Hindi
Thursday 17th of June 2021
770
0
نفر 0
0% این مطلب را پسندیده اند

अमरीकी दूतावास की गतिविधियों संदिग्धःसद्र गुट

बग़दाद में अमरीकी दूतावास की गतिविधियों के संबंध में सद्र गुट ने चेतावनी दी है। इराक़ की राजधानी बग़दाद में अमरीकी दूतावास में कर्मचारियों की बहुत अधिक संख्या से इराक़ में संवेदनीशलता बढ़ गयी है।

बग़दाद में अमरीकी दूतावास की गतिविधियों के संबंध में सद्र गुट ने चेतावनी दी है।इराक़ की राजधानी बग़दाद में अमरीकी दूतावास में कर्मचारियों की बहुत अधिक संख्या से इराक़ में संवेदनीशलता बढ़ गयी है। इराक़ के कुछ राजनैतिक दल इस दूतावास में तीन हज़ार कर्मचारियों व कूटनयिकों की संख्या को औचित्यहीन मानते हैं। इस संदर्भ में एक विचार योग्य बिन्दु यह है कि अमरीका वर्ष 2012 तक बग़दाद में अपने दूतावास के कर्मचारियों की संख्या बढ़ा कर छह हज़ार करना चाहता है। सद्र धड़े ने बग़दाद में अमरीका के अपने दूतावास के कर्मचारियों की संख्या बढ़ाने के पीछे लक्ष्यों की ओर से चिंता का आभास करते हुए बल दिया है कि सैनिको को अमरीकी दूतावास में कर्मचारियों का भेस देना, इराक़ के अतिग्रहण को जारी रखने के अर्थ में है।विश्व में अमरीका का सबसे बड़ा दूतावास इराक़ में है। इराक़ में अमरीकी राजदूत जेम्स जैफ़्री ने अभी हाल में वाइट हाउस से वर्ष 2012 के लिए बासठ अरब डालर का बजट मांगा है। इराक़ में अमरीकी दूतावास के कूटनयिकों व कर्मचारियों की अधिक संख्या और इसी प्रकार जेम्स जैफ़्री की अतिरिक्त बजट की मांग से इस विचार को बल मिलता है कि इराक़ में अमरीकी दूतावास को कूटनयिक गतिविधियों के अतिरिक्त कुछ और भी काम सौंपा गया है।इराक़ के राष्ट्रीय गठबंधन के वरिष्ठ सदस्य, इन्तेक़ाज़ क़ंबर बग़दाद में अमरीकी दूतावास की सामान्य कूटनैतिक गतिविधियों से बाहर की गतिविधियों की वास्तविकता को मानते हुए कहते हैं कि यह दूतावास अपने क़ानूनी गतिविधियों से हट कर इराक़ के राजनैतिक मामलों में हस्तक्षेप करता है यहां तक कि इराक़ के कुछ राजनैतिक हल्क़े अमरीकी दूतावास को अदृष्य सरकार की संज्ञा देते हैं।इस बीच अमरीका के विख्यात पत्रकार ज्वीश रैगिन ने अमरीकी विदेश मंत्रालय की एक रिपोर्ट के हवाले से रहस्योदघाटन किया है कि अमरीकी कंपनी हेलीबर्टन की एक शाखा केबीआर बग़दाद में इतने बड़े अमरीकी दूतावास का ख़र्चा उठा रही है।बग़दाद वाशिंग्टन समझौते के आधार पर इराक़ से सभी अमरीकी सैनिकों को वर्ष 2011 तक इराक़ से निकलना होगा। यद्यपि वाइट हाउस इस समझौते को बढ़ाना चाहता है किन्तु वह यह भी सोच रहे है कि यदि समझौता की तिथि आगे न बढ़ी तो इराक़ के संबंध में एक दूसरा विकल्प भी तय्यार रहे। दूसरी ओर अमरीका इराक़ में निजि सुरक्षा कंपनियों के सदस्यों की संख्या बढ़ा कर इराक़ी समाज में संवेदनशीलता को कम करने के साथ साथ इराक़ में अपनी सैन्य उपस्थिति को जारी रखना चाहता है। इन सब वास्तविकता के दृष्टिगत सद्र धड़े ने बग़दाद सरकार को इराक़ में अमरीकी दूतावास की गतिविधियों को दृष्टि में रखने की आवश्यकता की ओर से सचेत करते हुए इराक़ी जनता से भी अमरीकी अतिग्रहण के अंत के लिए प्रयास का आह्वान किया है।(एरिब हिन्दी के धन्यवाद के साथ).......166

770
0
0% (نفر 0)
 
نظر شما در مورد این مطلب ؟
 
امتیاز شما به این مطلب ؟
اشتراک گذاری در شبکه های اجتماعی:

latest article

वहाबियत, वास्तविकता और इतिहास-7
वहाबियत, वास्तविकता व इतिहास-3
दुआ कैसे की जाए
हज़रत ज़ैनब सलामुल्लाह अलैहा की ...
इस्लाम मक्के से कर्बला तक भाग 2
सहाबा अक़्ल व तारीख़ की दावरी में
इंसान के जीवन पर क़ुरआने करीम के ...
काबा का इफ़्तेखार और कर्बला की ...
क़ुरबानी का फ़लसफ़ा और उसके प्रभाव
गुद मैथुन इस्लाम की निगाह मे

 
user comment