Hindi
Sunday 24th of January 2021
128
0
نفر 0
0% این مطلب را پسندیده اند

दाइशी, दाइशी ही होते हैं, सुधरने वाले नहीं हैं

दाइशी, दाइशी ही होते हैं, सुधरने वाले नहीं हैं

सीरिया और इराक़ में दाइश की स्वयंभू सरकार ख़त्म तो हो गयी है किन्तु आतंकवादी गुट दाइश की महिलाओं के मनोबल पर कोई असर ही नहीं पड़ा है। सीरियन डेमोक्रेटिक आर्मी के लड़ाकों ने दाइश के अंतिम गढ़ अलबाग़ूज़ से आतंकियों की महिलाओं और उनके बच्चों को कैंपों में पहचाने के लिए गाड़ियों का सहारा लिया किन्तु वीडियो में दाइश की महिलाओं की हालत देखकर दुनिया हैरान है।

यह वीडियो दाइश की ही कुछ महिलाओं ने बनाया है जिसमें वह कह रही हैं कि दाइश ज़िंदा है और चलता रहेगा, हम वचन देते हैं कि कि दाइश के तथाकथित शेर दिल बच्चों को बड़ा करते रहेंगे।

रोइटर्ज़ ने रिपोर्ट दी है कि दाइश की कुछ महिलाओं ने सीरिया और इराक़ की दाइश की महिलाओं पर हमला किया और उनको काफ़िर कहा। दाइश की पराजय निश्चित होता देखकर इन लोगों ने अपने कट्टरपंथी दृष्टिकोण दूरी महिलाओं पर थोपने का प्रयास किया।

सीरियन और इराक़ी महिलाओं का कहना है कि दाइश की विदेशी महिलाएं हम पर चिल्लाती हैं, हमको काफ़िर कहती हैं क्योंकि हम अपने चेहरे नहीं ढांपते और इसीलिए वह हम पर लात घूंसों से हमले भी करती हैं।

दाइश की विदेशी महिलाओं ने केवल महिलाओं के साथ हाथापायी को ही पर्याप्त नहीं समझा बल्कि सीरियन डेमोक्रेटिक आर्मी के कैंप के पास मौजूद कुछ पत्रकारों पर पथराव भी किया।

128
0
0% (نفر 0)
 
نظر شما در مورد این مطلب ؟
 
امتیاز شما به این مطلب ؟
اشتراک گذاری در شبکه های اجتماعی:

latest article

पोप फ्रांसिंस के साथी और वेटिकन के ...
मस्जिद में घुस कर मोअज़्ज़िन की हत्या।
सोच-समझकर इस्लाम चुना
इराक़ी धर्मगुरु और नेता के बयान से ...
वलीद बिन तलाल 6 अरब डॉलर रिश्वत अदा ...
बहरैन, शेख़ ईसा क़ासिम की नागरिकता ...
लंदन की मस्जिद में नमाज़ियों पर ...
किस हद तक गिरती जा रही हैं सरकारें?!
इस इसाई पादरी ने आखिर अपना धर्म क्यों ...
धर्म के आधार पर बांटने की राजनीति के ...

latest article

पोप फ्रांसिंस के साथी और वेटिकन के ...
मस्जिद में घुस कर मोअज़्ज़िन की हत्या।
सोच-समझकर इस्लाम चुना
इराक़ी धर्मगुरु और नेता के बयान से ...
वलीद बिन तलाल 6 अरब डॉलर रिश्वत अदा ...
बहरैन, शेख़ ईसा क़ासिम की नागरिकता ...
लंदन की मस्जिद में नमाज़ियों पर ...
किस हद तक गिरती जा रही हैं सरकारें?!
इस इसाई पादरी ने आखिर अपना धर्म क्यों ...
धर्म के आधार पर बांटने की राजनीति के ...

 
user comment