Hindi
Wednesday 27th of May 2020
  182
  0
  0

तो क्या सच में अगले कुछ हफ्तों में सऊदी अरब में शराब बिकेगी और जुआघर व नाइट क्लब खुलेंगे?

तो क्या सच में अगले कुछ हफ्तों में सऊदी अरब में शराब बिकेगी और जुआघर व नाइट क्लब खुलेंगे?

सऊदी अरब में शाही खानदान के बारे में नये- नये रहस्यों से पर्दा उठाने वाले प्रसिद्ध ट्विटर हैंडलर " मुजतहिद" का कहना है कि सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस अगले कुछ हफ्तों के दौरान इस देश में शराब की बिक्री और जुआखाने खोलने का आदेश दे सकते हैं।

मुजतहिद ने ट्विट किया है कि बिन सलमान, अपने सुधारवादी कार्यक्रम के अंतर्गत सऊदी अरब में शराब की बिक्री और कैसिनो खोलने की अनुमति देने का इरादा रखते हैं। 

मुजतहिद के ट्विट के अनुसार बिन सलमान अपने पश्चिमी सुधारवादी कार्यक्रम के दूसरे चरण को लागू करने का इरादा रखते हैं जिसमें शराब की बिक्री और बड़े बड़े होटलों में शराब पीने की आज़ादी और कैसीनों , नाइट क्लब  और जुआखाने खोलना शामिल है। बीस लाख फालोअर वाले इस ट्विटर हैंडिल से कहा गया है कि इस समय भी सऊदी अरब के कई होटलों में शराब परोसी जाती है और गुप्त रूप से नाइट क्लब भी चल रहे हैं लेकिन अब यह सब कुछ कानूनी होने जा रहा है। 

सऊदी  अरब के क्राउन प्रिंस बिन सलमान ने जनवरी 2018 में ब्लूमबर्ग के साथ एक वार्ता में शराब के बारे में विवादस्पद बयान दिया था। उन्होंने कहा था कि सऊदी अरब के प्रस्तावित नये आधुनिक नगर " न्योन " में सारे नियम सऊदी अरब के रहेंगे बस दो प्रतिशत नियमों को लागू नहीं किया जाएगा। उनके इस बयान के मीडिया में खूब चर्चा हुई थी और यह अनुमान लगाया गया था कि सऊदी अरब के इस नये नगर में शराब पर प्रतिबंध नहीं होगा। 

इसी मध्य सऊदी अरब से संबंधित एक न्यूज़ वेबसाइट ने सोशल मीडिया और ट्विटर पर प्रकाशित कई तस्वीरों का उल्लेख करते हुए लिखा था कि सऊदी अरब के कई होटलों में गुपचुप रूप से शराब परोसी जाती है। इस रिपोर्ट में कहा गया था कि सऊदी समाज में सांस्कृतिक बदलाव बड़ी तेज़ी से भयानक रूप में आगे बढ़ रहा है। 

याद रहे मुसलमानों के अत्याधिक पवित्र नगर मक्का व मदीना सऊदी अरब में स्थित हैं और इस देश के शासक इस्लाम व धर्म के नाम पर सत्ता पर अपनी पकड़ मज़बूत रखने की कोशिश करते हैं। 

सऊदी नरेश, स्वंय को पवित्र स्थलों का सेवादार कहते हैं। 

  182
  0
  0
امتیاز شما به این مطلب ؟

latest article

    ज़ाहेदान आतंकी हमले पर ईरान की ...
    तेहरान, स्वीट्ज़रलैंड के दूतावास के ...
    स्कूल प्रशालन ने हिजाब पहनने पर लगाई ...
    इस्राईल की जेलों में फ़िलिस्तीनियों ...
    ईरान के इतिहास में पहली बार वरिष्ठ ...
    इस्राईली मीडिया और राजनैतिक ...
    श्रीलंका में लगी बुर्क़े पर रोक
    सुन्नत अल्लाह की किताब से
    स्वतंत्र मीडिया मर्ज़िया हाशमी का ...
    आतंकवाद की मदद करने वालों को ही करना ...

 
user comment