Hindi
Tuesday 13th of April 2021
70
0
نفر 0
0% این مطلب را پسندیده اند

दुआ-ए-सनमी क़ुरैश

दुआ-ए-सनमी क़ुरैश

इब्ने अब्बास बयान करते हैं कि एक रात मैं मस्जिदे रसूल में गया ताकि नमाज़े शब वहीं अदा करू ,चुनॉचे मैंने हज़रते अमीरूलमोमिनीन (अ.स.) को नमाज़ में मशग़ूल देखा ,एक गोशे में बैठकर हुस्ने इबादत देखने और क़ुरआन की आवाज़ सुनने लगा। हज़रत नवाफ़िले शब से फ़ारिग़ हुए और शफ़्अ व बित्र पढ़ी फिर कुछ इस क़िस्म की दुआऐं पढ़ीं जो मैंने कभी नहीं सुनी थीं।

जब हज़रत नमाज़ से फ़ारिग़ हुए तो मैने अर्ज़ की कि मेरी जान आप पर क़ुर्बान हो! यह क्या दुआ थी ?फरमाया कि यह दुआ-ए-सनमी क़ुरैश थी। और फ़रमाया क़सम है उस ख़ुदा की जिसके क़ब्ज़ा-ए-क़ुदरत में मुहम्मद (स.अ.) और अली (अ.स.) की जान है ,जो शख़्स इस दुआ को पढ़गा उसको ऐसा अज्र नसीब होगा कि गोया उसने ऑहज़रत सलल्लाहो अलैहे व आलेही वसल्लम के साथ जंगे ओहद और जंगे तबूक में जिहाद किया हो और हज़रत के सामने शहीद हुआ हो ,नीज़ उसको ऐसो 100हज व उमरे का सवाब मिलेगा जो हज़रत के साथ बजा लाये गये हों और हज़ार महीनों के रोज़ों का सवाब भी हासिल होगा और क़यामत के दिन उसका हश्र जनाबे रिसालतमआब (स.अ.) और आईम्मा-ए-मासूमीन (अ.स.) के साथ होगा और ख़ुदा वन्दे आलम उसके तमाम गुनाह माफ़ कर देगा चाहे वह आसमान के सितारों ,सहरा की रेत के ज़र्रों और तमाम दरख़्तों के पत्तो के बराबर ही क्यों न हों ! नीज़ वह शख़्स क़ब्र के अज़ाब से अमान में होगा ,उसकी क़ब्र में बहिश्त का एक दरवाज़ा ख़ोल दिया जायेगा।

जिस हाजत के लिये वह यह दुआ पढ़ेगा इन्शाअल्लाह पूरी होगी। ऐ इब्ने अब्बास ! अगर हमारे किसी दोस्त पर बला व मुसीबत आये तो इस दुआ को पढ़े निजात होगी।

क़ारईने किराम! दुआऐ सनमी-ए-क़ुरैश बहुत सी दुआओं की किताबों में मौजूद हे ,ख़ासकर वज़ाफ़ुल-अबरार में भी मौजूद है। अरबी इबादत के लिये दुआओं की किताबों को देखें यहाँ पर तर्जुमा पेश किया जा रहा हैः-

तर्जुमा दुआ-ए-सनमी क़ुरैश

बिस्मिल्लाहिर्र-रहमानिर्र-रहीम , "ऐ ख़ुदा वन्दे आलम तू मुहम्मद वा आले मुहम्मु पर रहमत नाज़िल फ़रमा! ख़ुदा वन्दा! तू क़ुरैश के दोनों (ज़ालिम) बातिल माबूदों और दोनों शैतानों और दोनों शरीक़ो (अबूबक्र व उमर) और उनकी दोनो बेटियों (आयशा और हफ़्सा) पर लानत कर जिन्होंने तेरे हुक्म की ख़िलाफ़वर्ज़ी की ,तेरी वही को पीठ दिखाई ,तेरे इन्आम के मुन्किर हुए ,तेरे रसूल की बात नहीं मानी ,तेरे दीन को पलट कर रख दिया ,तेरी किताब के तक़ाज़ो को पूरा नहीं होने दिया ,तेरे दुश्मनो से दोस्ती की ,तेरी नेमतों को ठुकराया ,और तेरे अहकाम को मुअत्तल किया ,और तेरे फ़राएज़ को बातिल किया और तेरी आयतों से इलहाद किया और दोस्तों से अदावत की और तेरे दुश्मनो से मुहब्बत की और तेरे शहरों को ख़राब किया और तेरे बन्दों में फ़साद फैलाया। ख़ुदा वन्दा ! तू उन दोनों (उमर व अबूबक्र) और उनकी मुताबिअत करने वालों पर लानत कर क्योंकि उन्होंने ख़ाना-ए-नबूवत को तबाह किया और उसका दरवाज़ा बन्द किया और उसकी छत को तोड़ डाला और उसके आसमान को उसकी ज़मीन से और उसकी बलन्दी को उसकी पस्ती से और उसके ज़ाहिर को उसके बातिन से मिला दिया और उस घर के मकीनों का इस्तेसाल किया और उसके मददगारों को शहीद किया और उसके बच्चों को क़त्ल किया और उसके मेम्बर को उसके वसी और उसके इल्म के वारिस से ख़ाली किया और उसकी इमामत से इन्कार किया और दोनों (अबूबक्र व उमर) ने अपने परवरदिगार का शरीक बना लिया लिहाज़ा तू उनके अज़ाब को सख़्त कर और उन दोनों (अबूबक्र व उमर) को हमेशा दोज़ख़ में रख और तू ख़ूब जानता है कि दोज़ख़ क्या है वह किसी को बाक़ी नहीं रखता और न छोड़ता है। ख़ुदा वन्दा ! तू इन पर लानत कर हर बूरी बात के बदले जो इनसे सरज़द हुई हो यानी इन्होंने हक़ को पोशीदा किया ,और मेम्बर पर चढ़े और मोमिन को तकलीफ़ दी और मुनाफ़िक़ से दोस्ती की और ख़ुदा के दोस्त को तकलीफ़ दी और रसूल के धुतकारे हुए (मरवान) को वापस ले आये और ख़ुदा के सच्चे और मुख़लिस बन्दों (अबूज़र) को जिला वतन किया और काफ़िर की मदद की और इमाम की बेहुरमती की और वाजिब में फ़ेर-बदल की और आसार के मुन्किर हुऐ और शर को इख़्तियार किया और (मासूम) का ख़ून बहाया ,और ख़ैर को तब्दील किया और कुफ़्र को क़ायम किया और झूठ और बातिल पर अड़े रहे और मिरास पर नाहक़ क़ाबिज़ हुऐ और ख़िराज को मुन्क़ता किया और हराम से अपना पेट भरा और ख़ुम्स को अपने लिये हलाल किया और बातिल की बुनियाद क़ायम की और ज़ुल्म व जौर को राएज किया और दिल में निफ़ाक़ पोशीदा रक्खा और मक्र को क़ल्ब में छुपाऐ रक्खा और ज़ुल्मों सितम की इशाअत की और वादों के ख़िलाफ़ अमल किया और अमानत में ख़यानत की और अपने अहद को तोड़ा और ख़ुदा व रसूल के हलाल को हराम किया और ख़ुदा व रसूल के हराम को हलाल किया और मासूमा-ए-आलम के शिकम पर दरवाज़ा गिराकर शिग़ाफ़ता किया और हज़रते मोहसिन मासूम का हम्ल साक़ित किया और मासूमा-ए-आलम के पहलू को ज़ख़्मी किया और वह कागज़ जो बाग़े फ़िदक दे देने के लिये लिखा गया था फ़ाड़ डाला और जमीयत को परागन्दा किया और इज़्ज़दारों की बेइज़्ज़ती की और ज़लील को अज़ीज़ किया हक़दार को हक़ से महरूम किया और झूठ को फ़रेब के साथ अमल में लाये और ख़ुदा और रसूल के अमल को बदल दिया और इमाम की मुख़ालिफ़त की।

परवरदिगार ! जिन-जिन आयतों की आईनी हैसियत को उन्होंने बदला है उनके आदाद और शुमार (गिनती) के मुताबिक़ उन पर लानत कर और जितने फ़राएज़ छोड़े हैं ,जितनी सुन्नतों को तब्दील किया है ,जो-जो अहकाम मुअत्तल किये हैं ,जिन-जिन रस्मों को मिटाया है ,जिन-जिन वसीयतों को कुछ से कुछ कर दिया और वह ऊमूर जो इनके हाथों ज़ाया हुऐ ,वह बैयत जिसके पड़ाख़च्चे उड़ाये ,वह गवाहियाँ जो छुपाई ,और वह दावे जिन्हे इन्साफ़ से महरूम रक्खा गया ,वह सुबूत जिन्हें क़ुबूल करने से इन्कार किया और वह हीले बहाने जो तराशे गये ,वह ख़यानत जो बरती गई और फिर वह पहाड़ी जिस पर यह जान बचाने के लिये चढ़ गये ,वह मुअय्यन राहे जो इन्होने बदलीं और वह खोटे रास्ते जो इन्होंने इख़्तियार किये ,उन सब के बराबर इन पर लानत भेज ! ऐ अल्लाह ! पोशीदा तौर पर ,ज़ाहिर ब-ज़ाहिर और ऐलानिया तरीक़े से इन पर लानत कर ,बेशुमार लानत ,अब्दी ( हमेशा रहने वाली ) लानत ,लगातार लानत ,और हमेशा बाक़ी रहने वाले लानत ,लानत जिसकी तादाद में कभी कमी न हो और इन पर इस लानत की मुद्दत कभी ख़त्म न हो ,ऐसी लानत जो अव्वल से शुरू हो और आख़िर तक मुन्क़ता न हो और दोस्तों और इनके हवाख़्वाहों पर लानत ,और इनके फ़रमाबरदारों और फिर इनकी तरफ़ रग़बत करने वालों पर लानत ,और इनके ऐहतेजाज पर हम-आवाज़ होने वालों पर लानत और इनकी पैरवी करने वालों के साथ ख़ड़े होने वालो पर लानत ,और इनके अक़वाल मानने वालों पर लानत और इनके अहकाम की तस्दीक़ करने वालों पर लानत भेज।

(इस जुमले को चार मर्तबा कहना है)

"ख़ुदा- वन्दा तू इन पर ऐसा अज़ाब नाज़िल कर की जिससे अहले दोज़ख़ फ़रियाद करने लगें ,ऐ तमाम आलमीन के परवरदिगार ! मेरी यही दुआ क़ुबूल कर।

(फिर चार मर्तबा कहा जाऐ)

"पस ऐ ख़ुदा तू इन सब पर लानत कर और रहमत नाज़िल कर मुहम्मद (स.अ.) और आले मुहम्मद (स.अ.) पर" और फिर मुझको अपने हलाल के साथ अपने हराम से बेनियाज़ करदे और मोहताजी से मुझको पनाह दे ,परवरदिगार! यक़ीनन मैंने बुरा किया और अपने नफ़्स पर ज़ुल्म किया ,मै अपने गुनाहों का इक़रार करता हूँ ,अब मैं तेरे सामने हूँ! तू अपने लिये मेरे नफ़्स की रिज़ामन्दी क़ुबूल कर क्योंकि मेरी बाज़गश्त तेरी तरफ़ है और मैं तेरी तरफ़ पलटूँ तो तू मुझ पर रहम फ़रमा ,इनायत फ़रमा जो ख़ास तेरा हिस्सा है ,अपने फ़ज़्ल और बख़्शिश और मग़फ़िरत और करम के साथ। ऐ रहम करने वालों में सबसे ज़्यादा रहीम ,और रहमत फ़रमा ऐ अल्लाह तमाम नबीयों के सरदार ख़ातिमुल नबीईन पर और उन जनाब की पाको पाकीज़ा और ताहिर औलाद पर ,अपनी रहमत से ऐ रहम करने वालों में सबसे ज़्यादा रहीम।

70
0
0% (نفر 0)
 
نظر شما در مورد این مطلب ؟
 
امتیاز شما به این مطلب ؟
اشتراک گذاری در شبکه های اجتماعی:

latest article

इस्लाम में औरत का मुकाम: एक झलक
इमाम असकरी अलैहिस्सलाम और उरूजे ...
हज़रत इमाम महदी अलैहिस्सलाम का परिचय
ईश्वरीय वाणी-४
अमीरुल मोमिनीन अ. स.
हज़रत ज़ैनब के शुभ जन्म दिवस के अवसर ...
इमाम हुसैन अ. के कितने भाई कर्बला में ...
हज़रत ज़ैनब सलामुल्लाह अलैहा
हज़रत इमाम हसन अलैहिस्सलाम
मानव जीवन के चरण 7

latest article

इस्लाम में औरत का मुकाम: एक झलक
इमाम असकरी अलैहिस्सलाम और उरूजे ...
हज़रत इमाम महदी अलैहिस्सलाम का परिचय
ईश्वरीय वाणी-४
अमीरुल मोमिनीन अ. स.
हज़रत ज़ैनब के शुभ जन्म दिवस के अवसर ...
इमाम हुसैन अ. के कितने भाई कर्बला में ...
हज़रत ज़ैनब सलामुल्लाह अलैहा
हज़रत इमाम हसन अलैहिस्सलाम
मानव जीवन के चरण 7

 
user comment