Hindi
Sunday 20th of June 2021
215
0
نفر 0
0% این مطلب را پسندیده اند

आतंकवाद का मुकाबला शिक्षा के बिना सम्भव नहींः मौलाना अबू बकर

आतंकवाद की वजह मदरसे नहीं बल्कि जहालत है. जिसकी वजह से आतंकवाद तेजी से बढ़ रहा है.

अबनाः अखिल भारतीय सुन्नी जामियायाथुल उलेमा के महासचिव कन्थापुरम एपी अबूबकर मुस्लियार ने मदरसों को आतंकवाद से जोड़े जाने की तीखी आलोचना की है. उन्होंने कहा कि आतंकवाद की वजह मदरसे नहीं बल्कि जहालत है. जिसकी वजह से आतंकवाद तेजी से बढ़ रहा है.
उन्होंने शिक्षा पर जोर देते हुए कहा कि हम सबको समाज से जिहालत को खत्म करने का काम करना चाहिए और शिक्षा को बढ़ावा देना चाहिए, क्योंकि आतंकवाद का मुकाबला शिक्षा के बिना मुमकिन नहीं.
केरल के जाने-माने सुन्नी धर्मगुरु ने बताया कि हम पिछले 40 साल से शैक्षिक सेवा अंजाम दे रहे हैं और हमारे यहाँ शिक्षा हासिल करने वाले बच्चे राष्ट्रीय सेवा में व्यस्त हैं. उन्होंने कहा कि हम स्कूल के साथ साथ इस्लामी मदरसा भी कायम कर रहे हैं, मस्जिदों का निर्माण और गरीब लोगों की हर संभव मदद कर रहे हैं.
उन्होंने कहा कि उनका पहले पूरा ध्यान दक्षिण भारत की और था लेकिन अब हम उत्तरी भारत में भी शिक्षा के लिए आंदोलन चला रहे हैं. ध्यान रहे इससे पहले उन्होंने मुजाहिद आंदोलन की जमकर आलोचना की थी.
उन्होंने कहा, “स्वयं घोषित मुस्लिम सुधारकों” ने भी वास्तविक मुद्दों को छुपा दिया था जिसे आज समुदाय का सामना करना पड़ रहा. वहीँ मुजाहिद इस्लाम के दुश्मनों के हाथों कठपुतली बन चुके हैं.

215
0
0% (نفر 0)
 
نظر شما در مورد این مطلب ؟
 
امتیاز شما به این مطلب ؟
اشتراک گذاری در شبکه های اجتماعی:

latest article

अमन और सुकून का केन्द्र केवल इस्लाम
नाइजीरिया में निर्दोष शियों पर पुलिस ...
आतंकवाद का मुकाबला शिक्षा के बिना ...
चीन का सैन्य बजट बढ़ा, पड़ोसी देश ...
क़ुर्अान पढ़ कर किया इस्लाम क़ुबूल।
विश्व मज़दूस दिवसः सो जाते हैं ...
दाढ़ी रखना है तो कॉलेज मत आओ, नामज़ पढ़ने ...
अफ़ग़ानिस्तान में शांति के लिए ...
किस हद तक गिरती जा रही हैं सरकारें?!
मौलाना अतहर अब्बास साहब का हार्ट अटैक ...

latest article

अमन और सुकून का केन्द्र केवल इस्लाम
नाइजीरिया में निर्दोष शियों पर पुलिस ...
आतंकवाद का मुकाबला शिक्षा के बिना ...
चीन का सैन्य बजट बढ़ा, पड़ोसी देश ...
क़ुर्अान पढ़ कर किया इस्लाम क़ुबूल।
विश्व मज़दूस दिवसः सो जाते हैं ...
दाढ़ी रखना है तो कॉलेज मत आओ, नामज़ पढ़ने ...
अफ़ग़ानिस्तान में शांति के लिए ...
किस हद तक गिरती जा रही हैं सरकारें?!
मौलाना अतहर अब्बास साहब का हार्ट अटैक ...

 
user comment