Hindi
Sunday 7th of June 2020
  3160
  0
  0

इंतेख़ाबे शहादत

इंतेख़ाबे शहादत

वाक़ेया ए करबला रज़्म व बज़्म, सोज़ व गुदाज़ के तास्सुरात का मजमूआ नही, बल्कि इंसानी कमालात के जितने पहलु हो सकते हैं और नफ़सानी इम्तियाज़ात के जो भी असरार मुमकिन हैं उन सब का ख़ज़ीनादार है, सानेहा ए करबला तारीख़ का एक दिल ख़राश वाक़ेया ही नही, ज़ुल्म व बरबरियत और ज़िन्दगी की एक ख़ूँ चकाँ दास्तान ही नही, फ़रमाने शाही में दर्ज नंगी ख़्वाहिशों की रुदादे फ़ितना ही नही बल्कि हुर्रियते फ़िक्र, निफ़ाज़े अदल और इंसान के बुनियादी हुक़ूक़ की बहाली की एक अज़ीमुश शान तहरीक भी है।

वाक़ेया ए करबला बाक़ी तारीख़ी वक़ायए में एक मुम्ताज़ मक़ाम और जुदागाना हैसियत रखता है चुनाँचे वह अपने मुनफ़रिद वसायल व ज़रायेअ और बुलंद व वाज़ेह अहदाफ़ व मकासिद ले कर तारीख़ की पेशानी पर चमकते हुए सितारे की मानिन्द नुमायाँ हुआ और ज़ुल्म व बरबरियत, ला क़ानूनियत, जाहिलियत के अफ़कार व नज़रियात, मुलूकियत के तारीक और इस्लाम दुश्मन अनासिर के बनाए ज़ुल्मत कदों में रौशन चिराग़ बन कर ज़हूर पज़ीर हुआ।

जब इस्लाम का चिराग़ ख़ामोंश किया जा रहा था और बनामे इस्लाम ख़िलाफ़े दीन व शरीयत अमल अंजाम दिये जा रहे थे, ज़लालत की तारीकी ने जहान को अपनी आग़ोश में समेट लिया था इंसान के बुनियादी हुक़ूक़ की ख़िलाफ़ वर्ज़ी आमेराना सोच को जन्म दे चुकी थी आमिरे मुतलक़ की ज़बान से निकला हुआ हर लफ़्ज़ क़ानून का दर्जा इख़्तियार कर चुका था और गुलशने हस्ती से सर उठा कर चलने का दिल नवाज़ मौसम रुख़सत हो चुका था, सिर्फ़ इस्लाम का नाम बाक़ी था, वह भी ऐसा इस्लाम कि जिस का रहबर यज़ीदे पलीद था, लोग कुफ़्र को ईमान, ज़ुल्म को अद्ल, झूट को सदाक़त, मयनोशी व ज़ेनाकारी को तक़वा व फ़ज़ीलत, फ़रेबकारी को इफ़्तेख़ार समझते थे और हक़ को उस के हमराह जानते थे कि जो क़ुदरत के साथ शमशीर ब कफ़ हो, अपने और बेगाने यही तसव्वुर करते थे कि यज़ीद ख़लीफ़ ए पैग़म्बर, हाकिमे इस्लाम और मुजरी ए अहकामे क़ुरआन है चूँ कि उस के क़ब्ज़ा ए क़ुदरत में हुकूमत और ताक़त है और हमेशा ऐसे ही रहेगी क्योकि यह हुकूमते इस्लामी है जिस का शेयार यह है कि व ला ख़बरुन जाआ व ला वहीयुन नज़ल।

गोया नक़्शे इस्लाम हमेशा के लिये सफ़ह ए हस्ती से मिटने वाला था और इंसानियत के लिये कोई उम्मीद बाक़ी न रह गई थी हर तरफ़ तारीकी अपने गेसू फ़ैलाए हुए थी।

ऐसे वक़्त में ख़ुरशीदे शहादत ने तूलू हो कर शहादत की शाहराह पर अज़्म व जुरअत के ऐसे बहत्तर चिराग़ रौशन किये कि जो महकूम अक़वाम, मज़लूम तबक़ात और इस्तेमार के ख़िलाफ़ अपनी आज़ादी की जंग लड़ने वाले हुर्रियत पसंदों के लिये मीनार ए नूर बन गये। इमाम हुसैन (अ) ने अपनी शहादत के ज़रिये ऐलान कर दिया तारीकी नही है, इस्लाम सिर्फ़ ताक़त का नाम नही है, हक़ व हक़ीक़त आशकार हो गई और हुज्जत ख़ल्क़ पर तमाम हो गई।

जब इमाम हुसैन (अ) ने यह देखा कि इस्लाम के पाकीज़ा व आला तरीन निज़ाम की हिफ़ाज़त की ज़मानत फ़राहम करने का सिर्फ़ एक ही रास्ता है तो आप ने दिल व जान से शहादत को क़बूल फ़रमाया क्योकि उसूल व अक़ायद तमाम चीज़ों से बरतर हैं हर शय उन पर क़ुर्बान की जा सकती है मगर उन्हे किसी शय पर क़ुर्बान नही किया जा सकता।

इमाम हुसैन (अ) ने शहादत को इस लिये इख़्तियार किया क्योकि शहादत में वह राज़ मुज़मर थे कि जो ज़ाहिरी फ़तहयाबी में नही थे, फ़तह के अंदर दरख़्शंदी ए शहादत नही थी, फ़तह गौहर को संग से जुदा नही कर सकती थी, शहादत दिल में जगह बनाती है जब कि फ़तह दिल पर असर करती भी है और कभी नही भी करती, शहादत दिलों को तसख़ीर करती है फ़तहयाबी पैकर को, शहादत ईमान को दिल में डालती है, शहादत से हिम्मत व जुरअत लाती है।

शहादत मुक़द्दस तरीन शय है उस को आशकारा होना चाहिये, अगर शहादत अलनी व आशकारा न हो तो हलाकत से नज़दीक होती है।

इमाम हुसैन (अ) शहादत के रास्ते को इख़्तियार व इंतेख़ाब करने में आज़ाद थे, दलील आप का मकतूब है:

हुसैन बिन अली (अ) की जानिब से मुहम्मद हनफ़िया और तमाम बनी हाशिम के नाम:

तुम में से जो हम से आ मिलेगा वह शहीद हो जायेगा और जो हमारे साथ नही आ मिलेगा वह फ़तह व कामयाबी व कामरानी से हम किनार नही होगा।

(कामिलुज़ ज़ियारात पेज 75, बिहारुल अनवार जिल्द 44 पेज 230)

अगर इमाम हुसैन अलैहिस सलाम ज़ाहिरी फ़तह को इंतेख़ाब करते तो दुनिया में शायद पहचाने नही जाते और हुसैन बिन अली (अ) का वह किरदार कि जो किलीदे शआदत था बशरीयत पर आशकार न हो पाता। इमाम हुसैन (अ) चाहते थे कि नबी ए अकरम (स) का दीन मिटने न पाये और इंसानियत तकामुल की राहों को तय कर जाये। लिहाज़ा फ़तहे ज़ाहिरी को छोड़ कर शहादते उज़मा को इख़्तियार किया कि जिस ने फिक्रे बशर की रहनुमाई और अख़लाक़ व किरदार को बुलंद व बाला कर के जुँबिशे फिक्री व जुँबिशे आतिफ़ी को दुनिया में ईजाद कर दिया, अज़ादारी इमाम हुसैन (अ) जुँबिशे आतिफ़ी का एक जावेदान नमूना है।

शहादते हुसैनी (अ) के असरात में मशहूर है कि आशूर के दिन सूरज को ऐसा गहन लगा कि उस दिन दोपहर को सितारे निकल आये।

(नफ़सुल महमूम पेज 484)

ख़ूने हुसैन (अ) आबे हयात था कि जिस ने इस्लाम को जावेद कर के मारेफ़त के गराँ बहाँ दुर को बशरीयत के सामने पेश करते हुए सही राह दिखा कर इंसानियत को हमेशा के लिये अपना मरहूने मिन्नत कर दिया।

पेशवाए शहीदान पेज 97

  3160
  0
  0
امتیاز شما به این مطلب ؟

latest article

    कर्बला में इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम का ...
    मौत के बाद बर्ज़ख़ की धरती
    इमाम गुनाह व ख़ता से मासूम
    इमाम महदी अलैहिस्सलाम।
    इमाम अली की ख़ामोशी
    सिलये रहम
    नाइजीरिया में सेना द्वारा इस्लामी ...
    किस शेर की आमद है कि रन काँप रहा है
    इमाम अली रज़ा अ. का संक्षिप्त जीवन ...
    हज़रत यूसुफ और जुलैख़ा के इश्क़ की ...

 
user comment