Hindi
Wednesday 17th of August 2022
331
0
نفر 0

बचपन का मोटापा बन सकता है उम्र भर के डिप्रेशन का कारण।

अबनाः मोटापे से संबंधित मेडिकल रिसर्च की यूरोपीय यूनियन ने चेतावनी दी है कि जो बच्चे 8 से 13 साल की उम्र में मोटापे का शिकार होते हैं वह अपने आनी वाली जिंदगी में बड़े स्तर पर डिप्रेशन में ग्रस्त रह सकते हैं। इस बात का खुलासा हाइलैंड में किए गए एक सर्वे से हुआ है जिसमें 889 लोगों के मानसिक स्वास्थ्य और शारीरिक मोटापे की लंबे समय तक समीक्षा की और अनंनततः यह परिणाम सामने आया।
जिसमें 1950 से लेकर 1970 तक के दहाईयों में पैदा होने वाले लोगों से संबंधित जानकारियां जमा की गई थी रिसर्च के बाद मालूम हुआ कि जो लोग 8 से 13 साल की उम्र में मोटे थे वह बड़े होने पर न केवल डिप्रेशन में ज्यादा ग्रस्त देखे गए बल्कि उनमें डिप्रेशन की शिद्दत भी साफ तौर पर दूसरों के मुक़ाबले में अधिक दिखाई दी।
इससे भी बढ़कर संकोच की बात यह देखने में आई कि ऐसे लोग अपनी पूरी जिंदगी में बार-बार डिप्रेशन के शिकार होते रहे जो लोग बड़े होने तक मोटापे से छुटकारा पाने में कामयाब हो गए थे उनमें भी बड़े होने पर डिप्रेशन मैं ग्रस्त होने का ख़तरा उन लोगों के मुकाबले में तीन गुना ज्यादा देखा गया जो बचपन से लेकर जवानी तक मोटे नहीं हुए थे।
इसके अलावा वह लोग जो बचपन से लेकर बुढ़ापे तक मोटापे में ग्रस्त रहे वह सामान्य स्थिति में डिप्रेशन के चार गुना ज्यादा शिकार बने। आईएएसओ ने अपनी ताजा प्रेस रिलीज में खासकर मां-बाप को यह चेतावनी दी है कि अपने बच्चों में मोटापे की अनदेखी न करें कि आपकी बात की उम्र में यही चीज उनके लिए बड़ी परेशानी का कारण बन सकती है और उन्हें हमेशा टेंशन में डाले रख सकती है।

331
0
0% (نفر 0)
 
نظر شما در مورد این مطلب ؟
 
امتیاز شما به این مطلب ؟
اشتراک گذاری در شبکه های اجتماعی:

latest article

अमेरिका और दाइश के बीच गुप्त ...
इस्राईल और सऊदी अरब के बीच गुप्त ...
यमनी बलों ने नजरान में सऊदी ...
म्यांमार संकट को जल्द से जल्द हल ...
शक़ीक़े बलख़ी की पश्चाताप
अशीष मे फ़िज़ूलख़र्ची अपव्यय है 2
हजः वैभवशाली व प्रभावी उपासना
नाइजीरियाई सेना पर ...
मिस्र में 200 साल पुराने सबसे छोटे ...
पापो के बुरे प्रभाव 1

 
user comment