Hindi
Friday 5th of March 2021
70
0
نفر 0
0% این مطلب را پسندیده اند

सलाम

सलाम

हाथो पा शह के रन को जो नूरे नज़र गये।
ज़ुल्मो जफ़ाओ जौर के चेहरे उतर गये।


अब्बास अपने हाथो को कटवाके हश्र तक
लफ्ज़े वफा बस अपने लिये खास कर गये।


नोके सिना पा आयए क़ुरआँ का विर्द था
कर्बोबला से शाम जो नैज़ो पा सर गये।


अब्बास के जलाल से लरज़ा थी फौजे शाम
कितने तो सिर्फ शेर की दहशत से मर गये।


चुन ने मलक़ भी आये हैं ज़हरा के साथ साथ
अश्के अज़ा जो फर्शे अज़ा पर बिखर गये।


रिज़वान तेरी ख़ुल्द की क़ीमत है एक अश्क
शब्बीर ऐसा हदिया हमें सौंपकर गये।


दुनियाँ में वो किसी से हुआ है न होएगा
जो काम शाहेवाला के असहाब कर गये।


हैदर की मन्ज़िलत तो पैयम्बर से पूछिये
पाया अली का लहजा जो मेराज पर गये।


कहते हैं लोग उनको भी देखो तो मुसलमाँ
लेकर जो आग लकड़ियाँ ज़हरा के घर गये।


'अहमद' कहूँ मैं कैसे उन्हें दीन का रहबर
बादे रसूल ज़हरा के जो हक़ से फिर गये।

70
0
0% (نفر 0)
 
نظر شما در مورد این مطلب ؟
 
امتیاز شما به این مطلب ؟
اشتراک گذاری در شبکه های اجتماعی:

latest article

सुन्नत अल्लाह की किताब से
यमनी फोर्सेस ने मिसाइल हमला कर सऊदी ...
एक मुसलमान को दूसरों के साथ किस ...
पश्चिमी समाज मे औरत का शोषण (1)
रोहिंगया मुसलमानों के नमाज़ पढ़ने पर ...
अमरीका ने फिर सीरिया पर की भीषण ...
इस्लाम हर तरह के अत्याचार का विरोधी ...
सऊदी अरब और तालिबान आतंकवादियों के ...
लोगों के बीच सुलह सफ़ाई कराने का सवाब
इराक़ के रक्षामंत्री ख़ालिद अल उबैदी ...

 
user comment