Hindi
Saturday 22nd of January 2022
1405
0
نفر 0

इस्लाम में औरत का महत्व।

इस्लाम में औरत का महत्व।

قالَ رسولُ الله صلي الله عليه و آله :  
إذا صَلَّتِ المَرأةُ خَمسَها و صامَت شَهرَها و أحصَنَت فَرجَها و أطاعَت بَعلَها فَلَتَدخُلُ الجَنَّةَ مِن أيِّ أبوابٍ شاءَت.
हज़रत रसूले इस्लाम स.अ. फ़रमाते हैंः  जब औरत अपनी पांचों वक़्त की नमाज़ पढ़े, रमज़ान के मुबारक महीने में रोज़े रखे और अपने चरित्र को पाक रखे और अपने पति का आज्ञापालन करे तो स्वर्ग के जिस दरवाजे से चाहे दाखिल हो सकती है।

1405
0
0% (نفر 0)
 
نظر شما در مورد این مطلب ؟
 
امتیاز شما به این مطلب ؟
اشتراک گذاری در شبکه های اجتماعی:

latest article

हज़रत इमाम हसन अलैहिस्सलाम
अशीष समाप्ती के कारण 2
पेंशन
जगह जगह हुईं शामे ग़रीबाँ की ...
इमाम असकरी अलैहिस्सलाम और उरूजे ...
ख़ुशी और प्रसन्नता के महत्त्व
जन्नत
शब्बीर का पैग़ाम सुनाने न दिया।
अज़ादारी रस्म (परम्परा) या इबादत
प्रकाशमयी चेहरे वाला सियाहपोस्त ...

 
user comment