Hindi
Wednesday 8th of July 2020
  1145
  0
  0

तुर्की, इस्तांबोल में दो विस्फ़ोट, 27 पुलिसकर्मियों सहित 29 की मौत और 166 घायल।

र्की के इस्तांबोल शहर में 2 बम हमलों में कम से कम 29 लोग हताहत और 166 अन्य घायल हुए। तुर्की के गृह मंत्री सुलैमान सोएलू के अनुसार, पहला धमाका कार बम का था। यह धमाका शनिवार को बेसिकतास स्टेडियम के बाहर हुआ जबकि दूसरा आत्मघाती हमला था। आत्मघाती ने क़रीब में मौजूद पार्क में ख़ुद को धमाके से उड़ा
तुर्की, इस्तांबोल में दो विस्फ़ोट, 27 पुलिसकर्मियों सहित 29 की मौत और 166 घायल।

र्की के इस्तांबोल शहर में 2 बम हमलों में कम से कम 29 लोग हताहत और 166 अन्य घायल हुए।
तुर्की के गृह मंत्री सुलैमान सोएलू के अनुसार, पहला धमाका कार बम का था। यह धमाका शनिवार को बेसिकतास स्टेडियम के बाहर हुआ जबकि दूसरा आत्मघाती हमला था। आत्मघाती ने क़रीब में मौजूद पार्क में ख़ुद को धमाके से उड़ा लिया।
तुर्क गृह मंत्री ने कहा कि स्टेडियम के बाहर धमाके में पुलिस बस को निशाना बनाया गया। यह धमाका इस स्टेडियम के एक अहम फ़ुटबाल मैच के बाद हुआ। उन्होंने कहा कि ऐसा लगता है कि माका पार्क में होने वाला धमाका आत्मघाती था।
तुर्क गृह मंत्री ने बताया कि इन धमाकों के संबंध में अब तक 10 लोगों को गिरफ़्तार किया गया है।
उधर तुर्क राष्ट्रपति रजब तय्यब अर्दोग़ान ने जो धमाके के वक़्त शहर में मौजूद थे, कहा कि ये धमाके मैच के समय किए गए ताकि ज़्यादा से ज़्यादा जानी नुक़सान हो।
उन्होंने कहा, “एक बार फिर इस्तांबोल में आतंकवाद का बुरा चेहरा सामने आया जो हर प्रकार के मूल्य व नैतिकता को पैरों तले कुचल रहा है।”
रिपोर्ट मिलने तक किसी गुट ने इन हमलों की ज़िम्मेदारी नहीं ली थी।
नेटो महासचिव येन्स स्टोलटेनबर्ग ने भी इन धमाकों की आतंकी कृत्य के रूप में भर्त्सना की है।
ज्ञात रहे पिछले डेढ साल से तुर्की हमलों के निशाने पर रहा है। इनमें से ज़्यादातर हमलों के लिए तकफ़ीरी आतंकवादी गुट दाइश, पीकेके और दूसरे कुर्द गुटों पर आरोप लगते रहे हैं।
जून में इस्तांबोल के अतातुर्क एयरपोर्ट पर दाइश के हमले में कम से कम 41 लोग हतहत और 240 अन्य घायल हुए थे।

  1145
  0
  0
امتیاز شما به این مطلب ؟

latest article

    श्रीलंका में लगी बुर्क़े पर रोक
    ज़ाहेदान आतंकी हमले पर ईरान की ...
    इस्राईली मीडिया और राजनैतिक ...
    अफ़ग़ानिस्तान, काबुल विस्फ़ोट में 8 ...
    अदालत के आदेश के बावजूद, शेख़ ज़कज़की ...
    बाप
    रोहिंग्या मुसलमानों के उत्पीड़न की ...
    यमन पर अतिक्रमण में इस्राईल की ...
    मोग्रीनी का जेसीपीओए को बाक़ी रखने पर ...
    ट्रम्प की तानाशाही का एकमात्र विकल्प, ...

 
user comment