Hindi
Friday 21st of January 2022
389
0
نفر 0

जो शख्स शहे दी का अज़ादार नही है

क़सीदा जो शख्स शहे दी का अज़ादार नही है वो जन्नतो कौसर का भी हक़दार नही है। जिसने न किया खाके शिफा
जो शख्स शहे दी का अज़ादार नही है



क़सीदा

जो शख्स शहे दी का अज़ादार नही है

वो जन्नतो कौसर का भी हक़दार नही है।


जिसने न किया खाके शिफा पर कभी सजदा

सच पूछीये वो दीं का वफादार नही है।


ये जश्ने विला शाहे शहीदां से है मनसूब

एक लम्हा किसी का यहा बेकार नही है।


जो खर्च न करता हो अज़ाऐ शहे दी मे

वो शाहे शहीदां का तरफदार नही है।


आशूर की शब क़िस्मते हुर ने कहा हुर से

अब जाग के शब्बीर सा सरदार नही है।


इज़्ज़त से जियो और मरो शह ने कहा है

ज़िल्लत को जो अपनाऐ वो खुद्दार नही है।


बिदअत जो अज़ाए शहे वाला को बताऐ

सब कुछ है मगर साहिबे किरदार नही है।


हक़ मिदहते मौला का भला कैसे अदा हो

हर शख्स यहाँ मीसमे तम्मार नही है।


source : alhassanain
389
0
0% (نفر 0)
 
نظر شما در مورد این مطلب ؟
 
امتیاز شما به این مطلب ؟
اشتراک گذاری در شبکه های اجتماعی:

latest article

पेंशन
इमाम अली (अ) की ख़िलाफ़त के लिये ...
हज़रत इमाम अली रज़ा अलैहिस्सलाम ...
प्रकाशमयी चेहरा “जौन हबशी”
पैग़म्बरे इस्लाम की निष्ठावान ...
पाप का नुक़सान
मानव जीवन के चरण 6
इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम की शहादत
सूरे रअद की तफसीर
अहले बैत ..... श्रेष्ठ कथन

 
user comment