Hindi
Thursday 13th of May 2021
295
0
نفر 0
0% این مطلب را پسندیده اند

इबादते इलाही में व्यस्त हुए रोज़ेदार

दर्से क़ुरान और हदीस का आयोजन

माहे रमज़ान में रोज़ेदार नमाज़ी इबादते इलाही कर अपने रब की इबादत में मसरूफ़ हैं। विभिन्न स्थानों पर दर्से क़ुरान का आयोजन कर रोज़ेदारों को क़ुरान और माहे नमज़ान का महत्व बताया जा रहा है, जिसमें बड़ी संख्या में रोज़दार भाग ले रहे हैं। इस सिलसिले में हरदोई रोड के सरफ़राज़गंज स्थित अलमुअम्मल कल्चरल फाउन्डेशन में शुक्रवार से दस दिवसीय दर्से क़ुरान और अक़ाएद का आयोजन किया जा रहा है, जिसमें विभिन्न उलमा अलग-अलग विषयों पर अपने विचार व्यक्त करेंगें। फाउन्डेशन के मौलाना एहतेशाम ने बताया कि आज रात हुए दर्से क़ुरान में मौलाना इस्तेफ़ा रज़ा ने नमज़ान की दुआओं में इमामे वक़्त का ज़िक्र विषय पर अपने विचार प्रस्तुत किए। आठ अगस्त से मौलाना हसनैन बाक़िरी जौरासी रमज़ान बहारे क़ुरान विषय पर व्याख्यान देंगें। वहीं सुबह दस बजे से पूर्वांह ग्यारह बजे तक महिलाओं के लिये दर्से क़ुरान का आयोजन किया जा रहा है जिसमें ज़ीनत फ़ातिमा महिलाओं को दर्से क़ुरान दे रहीं हैं।
तौहीद इस्लामिक क्लब की ओर से एक परिचर्चा का आयोजन मौलाना बशारत हुसैन जाफ़री ने करते हुए रोज़दारों को रोज़ों का महत्व बताया, इस अवसर पर युनिटी मिशन के सय्यद आले हाशिम ने माहे रमज़ान की फ़ज़ीलत बयान की। क्लब के अध्यक्ष डा. मुहम्मद शाहिद ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि माहे रमज़ान हमे गुनाहों से बचने और नेकियों को अपनाने का मौक़ा देता है।
........

 


source : www.sibtayn.com
295
0
0% (نفر 0)
 
نظر شما در مورد این مطلب ؟
 
امتیاز شما به این مطلب ؟
اشتراک گذاری در شبکه های اجتماعی:

latest article

इमाम असकरी अलैहिस्सलाम और उरूजे ...
पश्चाताप के बाद पश्चाताप
इमाम महदी अ.ज. की वैश्विक हुकूमत में ...
आयतल कुर्सी का तर्जमा
इमाम हुसैन अ. के कितने भाई कर्बला में ...
हज़रत इमाम महदी अलैहिस्सलाम का परिचय
नहजुल बलाग़ा में हज़रत अली के विचार
शियों के इमाम सुन्नियों की किताबों ...
वेद और पुराण में भी है मुहम्मद सल्ल. के ...
सहीफ़ए सज्जादिया का परिचय

 
user comment