Hindi
Wednesday 12th of May 2021
380
0
نفر 0
0% این مطلب را پسندیده اند

ख़ज़र सागर के ज्वार भाटे की क्षतिपूर्ति 1

ख़ज़र सागर के ज्वार भाटे  की क्षतिपूर्ति 1

पुस्तक का नामः कुमैल की प्रार्थना का वर्णन

लेखकः आयतुल्ला हुसैन अंसारीयान

 

ख़ज़र समुद्र की सतह दूसरे समुद्रो की अपेक्षा मे 27.6 मीटर नीचे है तथा इस से भी नीचे होती चली जाएगी, ख़ज़र सागर दूसरे समुद्रो से मिला हुआ नही है, इसवंश सार्वजनकि महासागरो के ज्वार भाटे के अधीन भी नही है। ख़ज़र सागर चूंकि छोटा है इसीलिए चंद्रमा के गुरुत्वबल से लाभांकित नही हो सकता इस कारण इसमे ज्वार भाटा नही आना चाहिए तथा इसके पानी को गंदा होना चाहिए इसकी मच्छलियो को मर जाना चाहिए तथा इसके चारो तटो को गंदगी से परिपूर्ण हो जाना चाहिए, पशु नही होने चाहिए, परन्तु ऐसा क्यो नही है?

इस ख़ज़र सागर को पैदा करने वाला जानता है कि इस कमी की किस प्रकार क्षतिपूर्ति की जाए, उसने सरेनोक”, ख़ज़री तथा मियानवा नामक हवाओ को चलाया ताकि अपनी शक्ति द्वारा पानी को ऊपर नीचे करें यहा तक कि जो नदिया उसमे गिरती है उनके पानी को ऊपर नीचे करें।    

 

जारी

380
0
0% (نفر 0)
 
نظر شما در مورد این مطلب ؟
 
امتیاز شما به این مطلب ؟
اشتراک گذاری در شبکه های اجتماعی:

latest article

इमाम हुसैन अ. के कितने भाई कर्बला में ...
हज़रत इमाम महदी अलैहिस्सलाम का परिचय
नहजुल बलाग़ा में हज़रत अली के विचार
शियों के इमाम सुन्नियों की किताबों ...
वेद और पुराण में भी है मुहम्मद सल्ल. के ...
सहीफ़ए सज्जादिया का परिचय
जनाबे ज़ैद शहीद
तरकीबे नमाज़
ईरान में रसूल स. और नवासए रसूल स. के ग़म ...
रसूले अकरम की इकलौती बेटी

 
user comment