Hindi
Thursday 30th of June 2022
215
0
نفر 0

पापी और पश्चाताप की आशा

पापी और पश्चाताप की आशा

पुस्तक का नामः पश्चाताप दया की आलंग्न

लेखकः आयतुल्ला हुसैन अंसारियान

 

एक सज्जन पुरूष को बहुत अधिक रोता हुआ देखा गया तो लोगो ने उससे रोने का कारण पूछा उसने उत्तर दियाः यदि ईश्वर ने मुझ से कहा कि तुझे पापो के कारण गरम हम्माम मे सदैव के लिए क़ैद कर दूंगा, तो यही काफ़ी है कि मेरी आँखो के आंसू सूख ना जाए लेकिन क्या किया जाए कि उसने पापीयो को नर्क की यातना के योग्य बनाया है, वह नर्क जिसकी आग को हज़ार वर्षो तक दहकाया गया कि वह लाल हुई, हज़ार वर्षो तक सफेद किया गया, तथा हज़ार वर्षो तक उसको फूंका गया कि वह काली हो गई, तो फिर मै उसमे कैसे रह सकता हूँ इस यातना से मोक्ष की आशा केवल ईश्वर के दरबार मे पश्चाताप और माफ़ी है।[1]



[1] रौज़ातुल बयान, भाग 2, पेज 225

215
0
0% (نفر 0)
 
نظر شما در مورد این مطلب ؟
 
امتیاز شما به این مطلب ؟
اشتراک گذاری در شبکه های اجتماعی:
لینک کوتاه

latest article

अफ़्रीक़ी के चाड देश में लगा ...
स्कूल प्रशालन ने हिजाब पहनने पर ...
कफ़न चोर की पश्चाताप 3
पश्चाताप तत्काल अनिवार्य है 3
रफ़ीक़ हरीरी हत्याकांड के पीछे ...
यमनी सेना के जवाबी हमले में कई ...
ज़ायोनी सैनिकों ने हरमे ...
पश्चाताप तत्काल अनिवार्य है 5
सऊदी युवराज की भारत यात्रा के ...
ईरान, क़ुम में शहीद आयतुल्लाह ...

 
user comment