Hindi
Sunday 27th of September 2020
  12
  0
  0

पापी और पश्चाताप की आशा

पापी और पश्चाताप की आशा

पुस्तक का नामः पश्चाताप दया की आलंग्न

लेखकः आयतुल्ला हुसैन अंसारियान

 

एक सज्जन पुरूष को बहुत अधिक रोता हुआ देखा गया तो लोगो ने उससे रोने का कारण पूछा उसने उत्तर दियाः यदि ईश्वर ने मुझ से कहा कि तुझे पापो के कारण गरम हम्माम मे सदैव के लिए क़ैद कर दूंगा, तो यही काफ़ी है कि मेरी आँखो के आंसू सूख ना जाए लेकिन क्या किया जाए कि उसने पापीयो को नर्क की यातना के योग्य बनाया है, वह नर्क जिसकी आग को हज़ार वर्षो तक दहकाया गया कि वह लाल हुई, हज़ार वर्षो तक सफेद किया गया, तथा हज़ार वर्षो तक उसको फूंका गया कि वह काली हो गई, तो फिर मै उसमे कैसे रह सकता हूँ इस यातना से मोक्ष की आशा केवल ईश्वर के दरबार मे पश्चाताप और माफ़ी है।[1]



[1] रौज़ातुल बयान, भाग 2, पेज 225

  12
  0
  0
امتیاز شما به این مطلب ؟

latest article

हदीसो के उजाले मे पश्चाताप 1
अलअंबार प्रांत पर आतंकी क़ब्ज़ा ...
बच्चों के लड़ाई झगड़े को कैसे कंट्रोल ...
सूरे रअद का की तफसीर 2
नेपालः निरंतर बढ़ती मृतकों की संख्या, ...
तेहरान, स्वीट्ज़रलैंड के दूतावास के ...
अल्ताफ़ हुसैन को 81 साल क़ैद की सज़ा
पश्चाताप आदम और हव्वा की विरासत 3
कफ़न चोर की पश्चाताप 6
इस्लाम में पड़ोसी के अधिकार

 
user comment