Hindi
Friday 25th of September 2020
  12
  0
  0

मोमिन और पाखंडी में फ़र्क़

मोमिन और पाखंडी में फ़र्क़

मोमिन पहले सलाम करता है जबकि मुनाफ़िक़ कहता हैः मुझे सलाम किया जाएः पैग़म्बरे इस्लाम

लोगों में इज़्ज़त व शोहरत पाने का तरीक़ा

जो लोगों के बीच इज़्ज़त व शोहरत चाहता है उसे तन्हाई और सबके सामने दोनों ही हालत में गुनाह से बचना चाहिएः इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम

दुनिया में अधिक ज़िन्दगी पाने का राज़

इमाम मूसा काज़िम अलैहिस्सलाम फ़रमाते है कि जो शख़्स अपने घरवालों और भाइयों के साथ नेकी करे तो उसकी ज़िन्दगी बढ़ जाएगी।

 अपनी औलाद की इज़्ज़त करना

अपनी औलाद की इज़्ज़त करो और उन्हें अदब सिखाओः पैग़म्बरे इस्लाम

 दूसरों के ऐब से पहले अपने ऐब पर नज़र.

हज़रत इमाम जाफ़रे सादिक़ अलैहिस्सलाम फ़रमाते हैं कि इंसान के लिए सबसे ज़्यादा फ़ायदेमंद चीज़ यह है कि वह दूसरों के ऐब व कमियों पर नज़र डालने से पहले अपने ऐब व कमी पर नज़र रखे।


source : irib.ir
  12
  0
  0
امتیاز شما به این مطلب ؟

latest article

हज़रत फ़ातिमा ज़हरा सलामुल्लाह ...
शबे कद़र के मुखतसर आमाल
आशीषो को असंख्य होना 2
अब्बासी हुकूमत का, इमाम हसन असकरी अ.स. ...
गुरूवार रात्रि
इमामे हसन असकरी(अ)
बनी हाशिम के पहले शहीद “हज़रत अली ...
अमीरुल मोमिनीन अ. स.
अज़ादारी रस्म (परम्परा) या इबादत
ईश्वरीय आतिथ्य-1

 
user comment