Hindi
Wednesday 23rd of September 2020
  41
  0
  0

प्रत्येक पाप के लिए विशेष पश्चाताप 6

प्रत्येक पाप के लिए विशेष पश्चाताप 6

पुस्तक का नामः पश्चाताप दया का आलंग्न

लेखकः आयतुल्ला अनसारीयान

 

2- दुनिया

सभी भैतिकवादी तत्वो और मानव जीवन की आवश्यक वस्तुओ से संपर्क ही इंसान की दुनिया है।

यदि यह संपर्क ईश्वर की इच्छानुसार हो तो निसंदेह मनुष्य की यह दुनिया प्रशंसा योग्य है, तथा परलोकी सआदत गारंटर है, परन्तु यदि मनुष्य का यही संपर्क भौतिकवाद एंव हवस के आधार पर हो जहा पर कोई प्रतिबंध न हो तो उस समय मनुष्य की यह दुनिया आलोचना योग्य एंव परलोक मे अपमान का कारण होगी।

निसंदेह यदि हवा व हवस के आधार पर और बेलगाम इच्छाओ के साथ भौतिक वस्तुओ से लगाव हो तो निश्चित रूप से मनुष्य पापो के दलदल मे फस जाता है।

इस अवैध संपर्क के कारण मनुष्य सैक्स धन एंव समपत्ति का आशिक बन जाता है, तथा इस मार्ग द्वारा ईश्वर के वैध और अवैध (हलाल और हराम) का विरोध करता हुआ दिखाई देता है।

इसी प्रकार के संमर्क द्वारा मनुष्य, भौतिक वस्तुओ तथा सेक्स मे खो जाता है जिस से अत्यधिक हानि होती है, तथा परलोक मे इसके कारण घाटा भुगतना पड़ेगा।

 

जारी

  41
  0
  0
امتیاز شما به این مطلب ؟

latest article

इंटरनेट का इस्तेमाल जरूरी है मगर कैसे ...
यज़ीद रियाही के पुत्र हुर की पश्चाताप ...
तीन पश्चातापी मुसलमान 1
उदाहरणीय महिला 3
पश्चाताप नैतिक अनिवार्य है 4
जिस्मानी अज़ाब
सुन्नत अल्लाह की किताब से
हज़रत यूसुफ़ और ज़ुलैख़ा के इश्क़ की ...
पश्चाताप के माध्यम से समस्याओ का ...
पश्चाताप के माध्यम से समस्याओ का ...

 
user comment