Hindi
Friday 16th of April 2021
157
0
نفر 0
0% این مطلب را پسندیده اند

क़यामत का फ़लसफ़ा

क़यामत का फ़लसफ़ा

क़यामत, अल्लाह तआला की रहमत, दया, हिकमत, नीति और उसके न्याय की नुमाइश का स्थान है इस बारे में क़ुर्आने मजीद में यह फ़रमाता हैः

 

کَتَبَ عَلَی نَفْسِہِ الرَّحْمَۃَ لَیَجْمَعَنَّکُمْ إِلَی یَوْمِ الْقِیَامَۃِ لاَرَیْبَ فِیہِ


उसने अपने ऊपर रहमत को लिख लिया है निश्चित रूप से वह तुम्हे क़यामत के दिन एक जगह जमा करेगा, जिसमें कोई शक नहीं है।

रहमत, अल्लाह तआला के उन गुणों में से जिन्हें सिफ़ाते कमालिया कहा जाता है और जिसका मतलब यह है कि अल्लाह तआला मख़लूक़ात (जीवों) की ज़रूरतों का पूरा करने वाला है और उनमें से हर एक को उसके कमाल व कौशल की तरफ़ रहनुमाई करके इसके मुनासिब व उचित स्थान तक पहुँचाता है। इंसानी ज़िन्दगी की विशेषताएं साफ़ तौर पर इंसान की अबदी व अनन्त ज़िन्दगी को बयान करती हैं इसलिए एक ऐसी जगह होना ज़रूरी है कि जहाँ इंसान अबदी ज़िन्दगी बिता सके।

क़यामत अल्लाह की नीति के अनुसार भी है क्योंकि यह दुनिया, कि जो लगातार हरकत और तब्दीली में है अगर यह उस प्वाइंट तक न पहुँचे कि जहाँ ठहराव हो तो यह दुनिया अपने आख़री लक्ष्य, मक़सद और मंज़िल तक नहीं पहुँचेगी और अल्लाह तआला से जो हर प्रकार से हकीम व नीतिज्ञ है, बेमक़सद काम अन्जाम पाना असम्भव है, जैसा कि इरशाद होता हैः


أَفَحَسِبْتُمْ أَنَّمَا خَلَقْنَاکُمْ عَبَثًا وَأَنَّکُمْ إِلَیْنَا لاَتُرْجَعُونَ


क्या तुमने यह सोच रखा है कि हमने तुमको बेकार पैदा किया है और तुम हमारी तरफ़ पलटा कर नहीं लाये जाओगे?
दूसरे स्थान पर यह बयान करने के बाद कि आसमान और ज़मीन और जो कुछ इनके बीच है अल्लाह तआला ने उन सब को बेकार पैदा नहीं किया है। क़यामत को बयान करने के बाद यह फ़रमाता हैः


 إِنَّ یَوْمَ الْفَصْلِ مِیقَاتُہُمْ أَجْمَعِینَ


क़यामत का एक और फ़लसफ़ा यह है कि अच्छे और बुरे तथा मोमिन और काफ़िर के बारे में अल्लाह तआला का न्याय पूरी तरह से लागू हो जाए क्योंकि दुनिया में सारे इन्सानों के एक साथ ज़िन्दगी गुज़ारने के आधार पर अल्लाह तआला के न्याय के अनुसार इनाम व सज़ा देने के क़ानून पर पूरी तरह अमल नामुमकिन है इस आधार पर एक ऐसी जगह का होना ज़रूरी है कि जहाँ अल्लाह तआला के इनाम व सज़ा पर आधारित क़ानून के लागू होने का इमकान पाया जाता हो, इस बारे में क़ुरआने मजीद में इरशाद होता हैः


 أَمْ نَجْعَلُ الَّذِینَ آمَنُوا وَعَمِلُوا الصَّالِحَاتِ کَالْمُفْسِدِینَ فِی الْأَرْضِ أَمْ نَجْعَلُ الْمُتَّقِینَ کَالْفُجَّارِ


क्या हम मोमिनों और अच्छे काम करने वालों को ज़मीन पर फ़साद व उपद्रव फैलाने वालों और परहेज़गारों व सदाचारियों को गुनाहगारों व पापियों के बराबर क़रार देंगे?

इसी तरह इरशाद होता हैः


 أَفَنَجْعَلُ الْمُسْلِمِینَ کَالْمُجْرِمِین مَا لَکُمْ کَیْفَ تَحْکُمُونَ


क्या हम बात मानने वालों को अपराधियों के बराबर क़रार देंगे, तुम्हे क्या हो गया है, कैसे फ़ैसला करते हो?


source : welayat.in
157
0
0% (نفر 0)
 
نظر شما در مورد این مطلب ؟
 
امتیاز شما به این مطلب ؟
اشتراک گذاری در شبکه های اجتماعی:

latest article

क़ियामत व मौत के बाद की ज़िन्दगी
क़यामत पर आस्था का महत्व
प्रलय है क्या
एक हतोत्साहित व्यक्ति
नास्तिकता और भौतिकता
अद्ल
क़यामत का फ़लसफ़ा
संभव वस्तु और कारक
कारक और ईश्वर
हक़ीक़ते इमामत

latest article

क़ियामत व मौत के बाद की ज़िन्दगी
क़यामत पर आस्था का महत्व
प्रलय है क्या
एक हतोत्साहित व्यक्ति
नास्तिकता और भौतिकता
अद्ल
क़यामत का फ़लसफ़ा
संभव वस्तु और कारक
कारक और ईश्वर
हक़ीक़ते इमामत

 
user comment