Hindi
Tuesday 29th of September 2020
  41
  0
  0

पापो के बुरे प्रभाव 1

पापो के बुरे प्रभाव 1

पुस्तक का नामः पश्चाताप दया का आलंग्न

लेखकः आयतुल्ला अनसारीयान

 

पवित्र क़ुरआन और अहलेबैत की शिक्षाओ के अनुसार, लोक तथा परलोक मे पापो के बुरे प्रभाव है यदि पापी ने अपने पापो से पश्चाताप नही किया तो निस्संदेह इन बुरे प्रभाव को भुगतना होगा।

 

بَلَى مَنْ كَسَبَ سَيِّئَةً وَأَحَاطَتْ بِهِ خَطِيئَتُهُ فَأُولئِكَ أَصْحَابُ النَّارِ هُمْ فِيهَا خَالِدُونَ 

 

बला मन कसबा सय्येअतन वअहातत बेहि ख़तिअतोहू फ़ऊलाऐका असहाबुन्नारे हुम फ़ीहा ख़ालेदून[1]

हाँ, जिन्होने पाप किये और पापो (अपराधो) ने उनके अस्तित्व को घेर लिया, वोही लोग नरक मे जाऐंगे तथा सदैव वही पर रहेंगे।

 

قُلْ هَلْ نُنَبِّئُكُم بِالاَخْسَرِينَ أَعْمَالاً * الَّذِينَ ضَلَّ سَعْيُهُمْ فِي الْحَيَاةِ الدُّنْيَا وَهُمْ يَحْسَبُونَ أَنَّهُمْ يُحْسِنُونَ صُنْعاً * أُولئِكَ الَّذِينَ كَفَرُوا بَآيَاتِ رَبِّهِمْ وَلِقَائِهِ فَحَبِطَتْ أَعْمَالُهُمْ فَلاَ نُقِيمُ لَهُمْ يَوْمَ الْقِيَامَةِ وَزْناً 

 

क़ल हल नोनब्बेओकुम बिल अखसरीना आमालन * अल्लज़ीना ज़ल्ला सायोहुम फिलहयातिद्दुनिया वहुम याहसबूना अन्नहुम योहसेनूना सुनअन * उलाएकल लज़ीना कफारू बेआयाते रब्बेहिम वलेक़एहि फ़हबेतत आमालोहुम फ़ला नोक़ीमो लहुम योमल क़ियामते वज़नन*[2]

लोगो से कहोः तुम्हे सूचित करता हूँ कि सबसे अधिक घाटा उठाने वाले लोग वो है, जिनके सभी प्रयास दुनिया के जीवन मे नष्ट हो गय है तथा वो लोग कल्पना करते है कि उन्होने पुण्य का काम किया है।

ये वो लोग है जिन्होने अपने ईश्वर की निशानीयो तथा उस की भेट से नास्तिक हो गये है, इसी कारण उनके सभी कर्म नष्ट हो गये, इसी लिए क़यामत मे ऐसे व्यक्तियो के लिए कोई तराज़ू नही होगी (क्योकि तराज़ू उन व्यक्तियो के लिए है जिनके कर्म मापने योग्य हो, ये लापरवाह एवं पापो मे घिरे हुए लोग जिनके अमल नष्ट हो चुके है ऐसे लोगो के लिए कोई तराज़ू नही होगी)।

   

जारी



[1] सुरए बक़रा 2, छंद 81

[2] सुरए कहफ़ 18, छंद 103-105

  41
  0
  0
امتیاز شما به این مطلب ؟

latest article

जानें दुनिया की शक्तिशाली सेनाओं में ...
ईरान को बदनाम करने का उद्देश्य सऊदी ...
यहूदियों की नस्ल अरबों से बेहतर है, ...
अमरीका ने फिर सीरिया पर की भीषण ...
लंदन में हालात ख़राब होने के बाद कहां ...
वहाबियत, वास्तविकता व इतिहास
दस मोहर्रम के सायंकाल को दो भाईयो की ...
आह, एक लाभदायक पश्चातापी 2
विश्व क़ुद्स दिवस, सुप्रीम लीडर हज़रत ...
फ़ैशन और परिवार की अर्थ व्यवस्था

 
user comment