Hindi
Wednesday 23rd of September 2020
  12
  0
  0

चिकित्सक 7

चिकित्सक 7

पुस्तक का नामः पश्चताप दया का आलंगन

लेखकः आयतुल्लाह अनसारियान

 

हमने इस से पहले उन 15 आदेशो की ओर संकेत किया जिन का पालन करके मानव अपने दुष्ट कर्मो को अच्छे कर्मो मे परिवर्तित कर सकता है, इस लेख मे पैगंबर से एक व्यक्ति ने स्वर्ग एवं नरकवासीयो के कार्य के समबंधित प्रश्न किया तो पैगंबर ने जो उत्तर दिया उसको हम आपके ज्ञान मे वृद्धि हेतु प्रस्तुत कर रहे है।  

جَاءَ رَجُلٌ اِلَى النَّبِىِّ (صلى الله عليه وآله وسلم) فَقالَ : يَا رَسُولَ اللهِ ! مَا عَمَلُ اَهْلِ الجَنَّةِ ؟ فَقالَ : الصِّدْقُ ، اِذَا صَدَقَ العَبْدُ بَرَّ ، وَاِذَا بَرَّ آمَنَ وَاِذَا آمَنَ دَخَلَ الجَنَّةُ . فَقَالَ : يَا رَسُولَ اللهِ ! مَا عَمَلُ اَهْلِ النَّارِ ؟ قَالَ : الكِذْبُ ، اِذَا كَذِبَ العَبْدُ فَجَرَ وَاِذَا فَجَرَ كَفَرَ وَاِذَا كَفَرَ دَخَلَ النّارَ

जाआ रजलुन एलन्नबिय्ये (सल्लल्लाहो अलैहे वाआलेहि वसल्लम) फ़क़ालाः या रसूलल्लाहे ! मा अमलो अहलिलजन्नते ? फ़क़ालाः अस्सिदक़ो, एज़ा सदक़ल अब्दो बर्रा, वएज़ा बर्रा आमाना वएज़ा आमाना दख़ललजन्नता। फ़क़ालाः या रसूलल्लाहे ! मा अमलो अहलिन्नारे ? क़ालाः अलकिज़बो, एज़ा कज़ेबल अब्दो फ़जरा वएज़ल फ़जरा कफ़रा वएज़ा कफ़रा दख़लन्नारा[१]

पैगंबर (सल्लल्लाहो अलैहे वाआलेहि वसल्लम) से एक व्यक्ति ने प्रश्न किया, हे ईश्वर दूत! स्वर्गवासीयो का क्या कार्य है? पैगंबर (सल्लल्लाहो अलैहे वाआलेहि वसल्लम) ने उत्तर दियाः सत्य, यदि मानव ने सत्य बोला तो उसने नेकी की, नेकी के कारण वह सुरक्षित हो गया, सुरक्षता के आधार पर स्वर्ग मे प्रवेश करेगा, तत्पश्चात व्यक्ति ने फ़िर प्रश्न कियाः हे ईश्वर दूत! नरकवासीयो का क्या कार्य है? पैगंबर (सल्लल्लाहो अलैहे वाआलेहि वसल्लम) ने उत्तर दियाः झुठ, यदि मानव ने झूठ बोला तो उसने पाप किया, जब मानव पाप से संक्रमित होगा तो नरक मे प्रवेश करेगा।        

जारी



[१] मजमूअए वर्राम (वर्राम का संग्रह), भाग 1, पेज 43, माजाआ फ़िस्सिदक़े वलग़ज़बे लिल्लाह के अध्याय, इर्शादुल क़ोलूब, भाग 1, पेज 185, अध्याय 51

  12
  0
  0
امتیاز شما به این مطلب ؟

latest article

यज़ीद रियाही के पुत्र हुर की पश्चाताप ...
तीन पश्चातापी मुसलमान 1
उदाहरणीय महिला 3
पश्चाताप नैतिक अनिवार्य है 4
जिस्मानी अज़ाब
सुन्नत अल्लाह की किताब से
हज़रत यूसुफ़ और ज़ुलैख़ा के इश्क़ की ...
पश्चाताप के माध्यम से समस्याओ का ...
पश्चाताप के माध्यम से समस्याओ का ...
आह, एक लाभदायक पश्चातापी 1

 
user comment