Hindi
Sunday 17th of January 2021
70
0
0%

रिवायात मे प्रार्थना 4

 रिवायात मे प्रार्थना 4

लेखक: आयतुल्लाह हुसैन अनसारियान

                          

किताब का नाम: शरहे दुआ ए कुमैल

 

इमाम सादिक (अलैहिस्सलाम) से रिवायत है:

( ۔۔۔ فَاِذَا نَزَلَ البَلَاءُ فَعَلَیکُم بِالدُّعَاءِ وَ التَّضَرُعِ اِلَی أللہِ )

... फ़एज़ा नज़लल बलाओ फ़अलैक़ुम बिद्दोआए वत्तज़ारोऐ एलल्लाहे[1]

जिस समय कोई आपत्ति आए, निश्चित रूप से परमेश्वर के सामने अनुनय के साथ प्रार्थना करो।

दूसरे स्थान पर उन्ही इमाम का कथन है:

عَلَیکَ بِالدُّعَاءَ؛ فَاِنَّ فِیہِ شِفَاءً مِن کُلِّ دَاء

अलैका बिद्दोआए फ़ा इन्ना फ़ीहे शिफ़ाअन मिन कुल्ले दाइन[2]

तुम्हारे ऊपर प्रार्थना अनिवार्य है क्योकि इसमे (प्रार्थना) हर दर्द की दवा है।



[1] अलकाफ़ी, भाग 2, पेज 471, पाठ इलहामुद्दोआए, हदीस 2; मौहज्जतुल बैज़ा, भाग 2, पेज 284, पाठ 2

[2] अलकाफ़ी, भाग 2, पेज 470, पाठ अन्नद्दोआआ शिफ़ाउन मिन कुल्ले दाइन, हदीस 1; मौहज्जतुल बैज़ा, भाग 2, पेज 285, पाठ 2

70
0
0%
 
نظر شما در مورد این مطلب ؟
 
امتیاز شما به این مطلب ؟

latest article

इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम के ज़माने के ...
हज में महिलाओं की भूमिका
हज हज़रत इमाम अली की दृष्टि में
हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स. की वसीयत और ...
इमाम हुसैन अ. के कितने भाई कर्बला में ...
तक़वा और पाकदामनी
वाकेआ ऐ हुर्रा
प्रस्तावना
चेहलुम, इमाम हुसैन की ज़ियारत पर न ...
ब्रह्मांड 5

 
user comment