Hindi
Saturday 24th of February 2018
code: 81309

शांतिपूर्वक रवां दवां अरबईन मिलियन मार्च

अहलेबैत (अ )न्यूज़ एजेंसी अबना :प्राप्त सूत्रों के अनुसार इराक़ के पवित्र शहर कर्बला ए मोअल्ला में सैय्यदुश्शोहदा हज़रत इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम और आपके साथियों का चेहलुम मनाया जा रहा है, जिसमें इराक़, ईरान, पाकिस्तान, हिंदुस्तान और दुनिया भर से आए हुए करोड़ों अक़ीदतमंद मौजूद हैं, जो जोश और मुनज़्ज़म तरीक़े से बारगाह ए हुसैनी में मातम कर रहे हैं, और ग़म मना रहे हैं। कर्बला ए मोअल्ला में हज़रत इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम और आपके बावफ़ा अस्हाब के चेहलुम में दुनिया के 60 देशों से लाखों लोग शरीक हुए हैं। एक अंदाजे के अनुसार इस समय कर्बला में लगभग तीन करोड़ अज़ादारों का मजमा है, और सड़कें और तमाम रास्ते हुसैनी परवानों से छलक रहे हैं, जिसमें तीन लाख के क़रीब ईरानी ज़ायरीन भी मौजूद हैं। पाकिस्तान, हिंदुस्तान, लेबनान समैत दुनिया भर के दूसरे देशों से भी लाखों की तादाद में अज़ादार कर्बला में सैय्यदुश्शोहदा का चेहलुम बनाने के लिए आए हैं। नजफ़ अशरफ़ और इराक़ के दूसरे शहरों से पैदल सफ़र कर के ज़ायरीन कर्बला ए मोअल्ला पहुंच रहे हैं। इस समय पर सिक्योरिटी के सख़्त इंतेज़ाम किए गए हैं।और दाइशी आतंकवादियों की धमकियों और अहलेबैत के दुश्मनों की साज़िशों के बावजूद हुसैनी परवाने इस अज़ीमुश्शान इजतेमा में शांतिपूर्वक कर्बला की तरफ बढ़ते चले जा रहे हैं। इराक़ के प्रधानमंत्री हैदर अल एबादी ने अरबईन मिलियन मार्च और चेहलुम इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम के मजमे की क़द्रदानी करते हुए सिक्योरिटी के बेहतरीन इंतजामात के लिए देश की सेना, पुलिस एवं स्वयंसेवी फोर्स के जवानों और कुर्बानियों की सराहना की है। इराक़ की सरकार के अनुसार अरबईन मिलियन मार्च और चेहलुम इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम की हिफाजत के लिए 35000 सिक्योरिटी को तैनात किया गया है जो पूरी मेहनत एवं जागरुकता के साथ अपने कर्तव्यों का निर्वाह कर रही है। चेहलुम इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम की पूरी सिक्योरिटी के लिए इराकी सेना तय्यार हैं,साथ ही यह सेना ज़ायरीन की सेवा भी कर रही एवं आतंकवादियों के ख़िलाफ़ भी खड़ी हैं।

latest article

  सुन्नियों की पुस्तकें और फ़ातेमा ...
  जनाबे फ़ातेमा ज़हरा के दफ़्न के मौक़े पर ...
  माहे रजब की दुआऐं
  हज़रत फ़ातेमा ज़हरा उम्महातुल ...
  सुन्नियों की पुस्तकें और फ़ातेमा ...
  जनाबे फ़ातेमा ज़हरा के दफ़्न के मौक़े पर ...
  फ़िदक और हज़रत फ़ातेमा ज़हरा
  हज़रत फ़ातेमा की शहादत
  वुज़ू के वक़्त की दुआऐ
  मुस्लिम बिन अक़ील अलैहिस्सलाम

user comment