Hindi
Monday 24th of September 2018

हज और उमरा

हज़रत अली अलैहिस्सलाम फ़रमाते हैं कि हज और उमरा करने वाला ख़ुदा का मेहमान है और ख़ुदा गुनाहों की माफ़ी की शक्ल में उसे तोहफ़ा देता है।

latest article

      हज़रत यूसुफ़ और ज़ुलैख़ा के इश्क़ की ...
      सूर -ए- अनआम की तफसीर
      तिलावत,तदब्बुर ,अमल
      तहरीफ़ व तरतीबे क़ुरआन
      क़ुरआने करीम की तफ़्सीर के ज़वाबित
      सुन्नत अल्लाह की किताब से
      जिस्मानी अज़ाब
      ज़ियारते नाहिया और उसूले काफ़ी
      इमाम खुमैनी रहमतुल्लाह की 29 वीं बरसी ...
      इमाम ख़ुमैनी के मज़ार और पार्लियमेंट ...

user comment