Hindi
Monday 20th of November 2017
code: 81033
बच्चों के सामने वाइफ की बुराई।

अबनाः पति-पत्नी में से हर एक में संभव है कोई खास नैतिक बुराई पाई जाती हो जो उसके जीवनसाथी की नाराजगी और दुख का कारण बने इस अवसर पर सबसे बड़ी खराबी यह है कि पति-पत्नी में से कोई एक अपने बच्चों के सामने दूसरे की बुराई करें क्योंकि मां बाप का वजूद बच्चों की जिंदगी है अगर बाप बच्चे के लिए मजबूत किला है और शक्ति का केंद्र है तो मां उसकी भावनाओं की कद्रदान है इसलिए बच्चे के सामने मां बाप में से किसी का अपमान वास्तव में उसकी भावनाओं के केंद्र और आत्मविश्वास के मजबूत किले को गिराने के समान है।
इसी तरह जब मां बाप में से कोई एक बच्चे के सामने दूसरे की आलोचना करता है तो वास्तव में बच्चे के अंदर अपमान और मां-बाप की बात ना मानने की भावना को मजबूत करता है इसलिए कुछ समय बाद उस घर में न तो बाप का सम्मान रहेगा और ना ही मां की कोई इज्जत बाकी बचेगी।
इसलिए विवाहित लोगों को इस बात की तरफ ध्यान देने की सख्त जरूरत है कि वह केवल जीवनसाथी ही नहीं बल्कि अपने बच्चों के लिए मां या बाप भी हैं इसलिए जीवनसाथी के तौर पर अपमान और तौहीन कहीं दूसरी भूमिका (यानी मां बाप होने) को भी न प्रभावित कर दे।

user comment
 

latest article

  अमेरिकी सैनिकों को सीरिया छोड़ने का आदेश
  दुआ फरज
  अमेरिका अपने रचाए षणयंत्रों में सफ़ल ...
  हज और उमरा
  दूसरों के ऐब से पहले अपने ऐब पर नज़र.
  मोमिन व मुनाफ़िक़ में अंतर।
  सदक़ा
  सीरिया, सेना ने किया क्षेत्रों आतंकवाद का ...
  तेहरान, शहीद हुजजी के अंतिम संस्कार में ...
  अबुस सना आलूसी