Hindi
Wednesday 20th of June 2018

बहरैन में कफ़न पहन कर लोगों ने किया प्रदर्शन, आयतुल्लाह ईसा क़ासिम की तत्काल रिहाई की मांग।

अबनाः  बहरैन की आले खलीफा तानाशाही ने साल भर चले ड्रामे और झूठे ट्रायल के बाद बहरैन के आध्यात्मिक नेता अयातुल्लाह शैख़ ईसा क़ासिम को एक साल नज़रबंदी की सजा सुनाई थी । बहरैन तानाशाही ने उनकी ३ मिलियन डॉलर की प्रॉपर्टी जब्त कर उन पर १ हज़ार दीनार का जुर्माना भी लगाया गया था । हालाँकि बहरैन कोर्ट ने उनकी सजा को ३ साल के लिए टाल दिया था लेकिन अदालत के फैसले के २४ घंटे के अंदर ही खलीफाई सैनिकों ने शैख़ क़ासिम के मकान पर धावा बोल दिया जिस में उनके एक साथी की शहादत हो गयी और सैंकड़ों घायल हो गए । बहरैन मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष ने कहा की बहरैन के तानाशाह ने रियाज़ सम्मेलन में ट्रम्प की सहमति मिलने के बाद यह हमला किया है । हमे विश्वास है कि बहरैन के घटनाक्रम में अमेरिका और खाड़ी देशों की पूर्ण सहमति शामिल है। बहरैन राजशाही को अमेरिका और क्षेत्र की साम्राज्यवादी सत्ता का समर्थन प्राप्त है । बहरैन सरकार ने मुस्तफा हमदान के बाद आज एक और बहरैनी नागरिको को शहीद कर दिया है


latest article

      शहीद सालेह अल सम्माद का अंतिम ...
      अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में ...
      कैराना में बीजेपी को हरा साँसद बनीं ...
      कैराना उपचुनाव: BJP सांसद के खिलाफ केस ...
      मस्जिद या ईदगाह के अंदर नमाज़ पढ़े ...
      म्यांमार की सेना ने रोहिंग्या ...
      कट्टरपंथियों ने या हुसैन के नाम पर ...
      सोलहवां आल इंडिया जश्ने हज़रते अब्बास
      ईरान के ख़िलाफ़ संगठित हैं ...
      बधाई की पात्र फ़ातिमा बतूल

user comment