Hindi
Wednesday 20th of June 2018

रमजान का महत्व।

قال رسول الله (صلى الله عليه و آله)
لو يعلم العبد ما فى رمضان لود ان يكون رمضان السنة
पैगम्बरे इस्लाम (स.) फ़रमाते हैं:
अगर ख़ुदा का बंदा जान लेता कि रमजान में है (क्या बरकतें और क्या रहमतें हैं) तो पूरे साल रमजान बाकी रहने की तमन्ना करता।
बिहारुल अनवार, भाग 93, पेज 346

latest article

      इमाम अली की ख़ामोशी
      इमाम हसन अ स की हदीसे
      आलमे बरज़ख़
      स्वयं को पहचानें किंतु क्यों?
      संभव वस्तु और कारक
      हज़रत इमाम सज्जाद अ.स.
      शब्दकोष में शिया के अर्थः
      जनाबे फ़ातेमा ज़हरा के दफ़्न के मौक़े पर ...
      तरकीबे नमाज़
      हज़रत अली द्वारा किये गये सुधार

user comment