Hindi
Saturday 24th of February 2018
code: 80899

हज़रत दाऊद अ. और हकीम लुक़मान की बातचीत

एक दिन हज़रत दाऊद अलैहिस्सलाम कवच बना रहे थे कि उनके पास हकीम लुक़मान पहुंच गए। हकीम लुक़मान उनके पास ख़ामोशी से बैठ कर हज़रत दाउद को देखने लगे। काम ख़त्म होने पर हज़रत दाउद ने कहाः कितना अच्छा कवच है! सौ तलवारों का मुक़ाबला कर सकता है। उसके बाद उन्होंने हज़रत लुक़मान को देखते हुए पूछाः जानते हैं क्या है? लुक़मान हकीम ने कहाः जी हां। हज़रत दाऊद ने कहाः अगर जानते हैं तो बताएं? हकीम लुक़मान ने कहाः लोहे का लिबास जंगजुओं के लिए ताकि ज़ख़्मों से बचे रहें। हज़रत दाऊद ने कहाः यह बात आपने किससे सुनी, किसने आपको बताया? हकीम लुक़मान ने कहाः मेरे उस्ताद ने। हज़रत दाऊद ने कहाः आपका उस्ताद कौन है? हकीम लुक़मान ने जवाब दियाः मेरी ख़ामोशी।

latest article

  ইরানের ধর্মভিত্তিক জনগণের শাসন ...
  आयतल कुर्सी का तर्जमा
  नमाज की ओर बुलाना, ज़िंदगी का सबसे ...
  इस्लाम में पड़ोसी के अधिकार
  क्या आपको मालूम है कि कब-कब केला खाना ...
  मुहम्मद बिन सलमान से डील नहीं हो पाने ...
  सुप्रीम कोर्ट के जजों ने दी चेतावनीः ...
  ग्यारह सऊदी शहज़ादे गिरफ़्तार।
  रियाद में सऊदी शासन के विरुद्ध ...
  लंदनः अमेरिकी दूतावास के सामने ...

user comment