Hindi
Friday 15th of December 2017
code: 80829
हज़रत अली (अ.स.) की नज़र में हज़रते ज़हरा



शादी के अगले दिन जब पैगंबर ने अली (अ.स.) से पूछा:ऐ अली तुमने मेरी बेटी जहरा को कैसा पाया? इमाम ने जवाब दिया, फातिमा अल्लाह की इताअत में सबसे अच्छी मददगार हैं।


अमीरुल-मोमनीन(अ.स.)फ़रमाते हैं: फातिमा कभी भी मुझसे नाराज़ नहीं हुईं और न मुझको नाराज़ किया।


जब भी मै उनके चेहरे पर नज़र करता हूं मेरे सभी दुख सुलझ जाते हैं और सारी तकलीफ़ें दूर हो जाती हैं।


न उन्हों ने कभी मुझे क्रोधित किया और न कभी मैने उनको रसूल्लाह स.व. फ़रमाते हैं अगर अली न होते तो फ़ातिमा के कोई बराबर न होता।

user comment
 

latest article

  ईरान में हर्षोल्लास पूर्वक मनाया गया ...
  शाह अब्दुल अज़ीम हसनी
  सफ़र के महीने की बीस तारीख़
  आशूरा के बरकात व समरात
  सबसे पहला ज़ाएर
  शहादत हज़रत मोहम्मद बाकिर (अ)
  शहादते इमामे मूसा काज़िम
  पाक मन
  सबसे अच्छा भाई
  जनाबे उम्मे कुलसूम बिन्ते इमाम अली (अ.स)