Hindi
Wednesday 26th of June 2019
  132
  0
  0

हज़रते मासूम-ए-क़ुम का जन्मदिवस

हज़रते मासूम-ए-क़ुम का जन्मदिवस

आज पैग़म्बरे इस्लाम सल्लल्लाहो अलैहि व आलेहि व सल्लम की पौत्री और हज़रत इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम की बहन हज़रत फातेमा मासूमा सलामुल्लाह अलैहा के जन्म दिवस का शुभ अवसर है। इस शुभ अवसर पर हम आप सबकी सेवा में हार्दिक बधाई प्रस्तुत करते हैं।हज़रत इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम की बहन हज़रत फ़ातेमा मासूमा का रौज़ा, जो ईरान के क़ुम नगर में स्थित है, शताब्दियों से देश-विदेश से आने वाले हज़ारों व्यक्तियों के दर्शन एवं श्रृद्धा का केन्द्र बना हुआ है। इस पवित्र रौज़े में पैग़म्बरे इस्लाम सल्लल्लाहो अलैहि व आलेहि व सल्लम के पवित्र परिजनों में से एक महान महिला दफ़न हैं। इस महान महिला का नाम फ़ातेमा है मासूमा की उपाधि से प्रसिद्ध हैं। हज़रत फातेमा मासूमा इमाम मूसा काज़िम अलैहिस्सलाम की सुपुत्री और हज़रत इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम की बहन हैं। इस महान महिला की ईरान में उपस्थिति ईरानियों के लिए दूसरा गर्व था जो उनके भाई हज़रत इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम के ईरान आने के बाद ईरानियों को प्राप्त हुआ था। हज़रत फ़ातेमा मासूमा सलामुल्लाह अलैहा ईमान और पवित्रता के आकाश में चमकते तारे की भांति हैं। आज उनके जन्म दिवस का शुभ अवसर है। इस शुभ अवसर पर हम पैग़म्बरे इस्लाम सल्लल्लाहो अलैहि व आलेहि व सल्लम और उनके पवित्र परिजनों पर सलाम भेजते हैं तथा इस शुभ अवसर पर आप सब श्रोताओ और पैग़म्बरे इस्लाम के पवित्र परिजनों से प्रेम करने वालों की सेवा में हार्दिक बधाई प्रस्तुत करते हैं।ईश्वरीय धर्म इस्लाम में महिला या पुरुष होना श्रेष्ठता का मापदंड नहीं है। पवित्र क़ुरआन का संबोधक मनुष्य है और उसके संबोधनों में महिला एवं पुरुष के मध्य किसी प्रकार का अंतर व विशिष्टता दिखाई नहीं पड़ती है। पवित्र क़ुरआन के अनुसार सबसे प्रतिष्ठित वह व्यक्ति है जो सबसे अधिक सदाचारी और महान ईश्वर से भय रखता हो। सबके सब चाहे वह महिला हो या पुरुष परिपूर्णता के शिखर और ईमान एवं सुकर्म की छत्रछाया में पवित्र जीवन तथा महान पारितोषिक प्राप्त कर सकते हैं। इसी बात के दृष्टिगत जिस तरह पैग़म्बर और इमाम दूसरे व्यक्तियों के लिए सर्वोत्तम आदर्श हैं उसी तरह हज़रत मरियम, हज़रत ख़दीजा, हज़रत फ़ातेमा ज़हरा, हज़रत ज़ैनब और हज़रत फ़ातेमा मासूमा भी समस्त लोगों विशेषकर महिलाओं के लिए अनुकरणीय आदर्श हैं। इन महान हस्तियों की पावन जीवनी मुक्ति व कल्याण चाहने वाले व्यक्तियों के लिए उपयुक्त व सर्वश्रेष्ठ उदाहरण है।हज़रत फ़ातेमा मासूमा सलामुल्लाह अलैहा का जन्म १७३ हिजरी क़मरी में पवित्र नगर मदीना में हुआ था। इसके बावजूद कि हज़रत इमाम मूसा काज़िम अलैहिस्सलाम के पास हज़रत मासूमा के अतिरिक्त दूसरी कई बेटियां थीं किन्तु उन सबके मध्य हज़रत फ़ातेमा मासूमा उच्च विशेषताओं व सदगुणों की स्वामी थीं और उन्हें विशेष स्थान प्राप्त था। हज़रत इमाम मूसा काज़िम अलैहिस्सलाम की संतानों के मध्य हज़रत इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम के बाद हज़रत फ़ातेमा मासूमा व्यक्तिगत एवं आध्यात्मिक दृष्टि से सबसे अधिक सदगुणों व विशेषताओं की स्वामी थीं। आपने अपने पिता और अपने बड़े भाई की छत्रछाया में बहुत ही कम समय में शैक्षिक विकास के शिखर मार्ग को तय किया। उनके शैक्षिक स्थान को समझने के लिए उदाहरण स्वरुप इस घटना को बयान किया जाता है। एक दिन पैग़म्बरे इस्लाम सल्लल्लाहो अलैहि व आलेहि व सल्लम के पवित्र परिजनों के अनुयाइयों का एक गुट काफी दूर के क्षेत्र से पवित्र नगर मदीना पहुंचा ताकि हज़रत इमाम मूसा काज़िम अलैहिस्सलाम से अपने प्रश्न पूछें। उस समय इस्लामी क्षेत्रों में यह शैली प्रचलित थी कि प्रतिवर्ष नियत समय में कुछ गुट मक्का और मदीना जाते थे ताकि अपने धार्मिक प्रश्नों को तत्कालीन इमाम से पूछें और खुम्स व ज़कात की विशेष धन राशि इमाम की सेवा में अर्पित करने के लिए अपने साथ ले जाते थे। कारवां पवित्र नगर मदीना में प्रवेश करने के बाद इमाम मूसा काज़िम अलैहिस्सलाम की घर की ओर रवाना हुआ। इस कारवां के थके मांदे लोग जब इमाम के घर पहुंचे तो उन्हें यह पता चला कि इमाम यात्रा पर गये हैं। कारवां वालों ने जब न तो इमाम को देखा और न ही उन्हें अपने प्रश्नों का उत्तर मिला तो उनकी थकान दो बराबर हो गयी। कारवां पर गहरा सन्नाटा छा गया। कारवां वाले वापस लौटना ही चाह रहे थे कि इसी मध्य पूर्ण हिजाब के साथ इमाम के घर से एक लड़की निकली जिससे कारवां पर छाया मौन टूट गया। उस लड़की ने कारवां वालों से कहा कि वे अपने प्रश्नों को उसे दें। वह लड़की हज़रत फ़ातेमा मासूमा सलामुल्लाह अलैहा के अतिरिक्त कोई और नहीं थी। आपने कारवां के प्रश्नों को लिया और पूरी सूक्ष्मता से उनमें से हर एक पत्र का उत्तर लिखकर दोबारा कारवां वालों को दे दिया। कारवां वालों के लिए यह आश्चर्य चकित करने वाली बात थी कि कम आयु होने के बावजूद लड़की ने उनके प्रश्नों के उत्तर दे दिये। जब कारवां वापस जा रहा था तो वापसी में उसने इमाम मूसा काज़िम अलैहिस्सलाम को मार्ग में देखा जो यात्रा से लौट रहे थे। बड़ी खुशी के साथ कारवां वाले इमाम के पास गये और उन लोगों ने पूरी घटना इमाम को बतायी तथा इमाम मूसा काज़िम अलैहिस्सलाम की सुपुत्री के हस्ताक्षर को उन्हें दिखाया। इमाम मूसा काज़िम अलैहिस्सलाम ने जैसे ही पत्र खोला उनका तेजस्वी चेहरा प्रसन्नता से खिल उठा। उन्होंने अपना चेहरा कारवां वालों की ओर किया और मुस्कान के साथ तीन बार कहा" उसके पिता उस पर न्यौछावर हों" इमाम मूसा काज़िम अलैहिस्सलाम का यह वाक्य हज़रत फातेमा मासूमा सलामुल्लाह अलैहा द्वारा दिये गये उत्तरों की पुष्टि का सूचक है।हज़रत फ़ातेमा मासूमा सलामुल्लाह अलैहा ऐसे माता- पिता की छत्रछाया में बड़ी हुईं जो समस्त सदगुणों से सुसज्जित थे। उपासना, त्याग, सदाचारिता, ईश्वर से भय, क्षमा शीलता और समस्याओं एवं कठिनाइयों के मुकाबले में धैर्य इस परिवार की स्पष्ट विशेषतायें थीं। हज़रत फ़ातेमा मासूमा भी इन सदगुणों से सुसज्जित थीं और इस्लामी शिक्षाओं व ज्ञानों को प्राप्त करने में बहुत प्रयास किये। उन्होंने अपने महान पिता से जो कुछ भी सीखा था उसे किसी प्रकार के परिवर्तन के बिना लोगों को सिखा दिया। कभी हज़रत फ़ातेमा मासूमा सलामुल्लाह भी पैग़म्बरे इस्लाम सल्लल्लाहो अलैहि व आलेहि व सल्लम और उनके उत्तराधिकारियों के कथनों को बयान करके लोगों को जागरुक बनाती थीं। दूसरे शब्दों में यह महान महिला मोहद्दिसा अर्थात पैग़म्बरे इस्लाम सल्लल्लाहो अलैहि व आलेहि व सल्लम और उनके पवित्र परिजनों के कथनों को बयान करने वाली थीं। हज़रत फ़ातेमा मासूमा ने अपने महान पिता हज़रत इमाम मूसा काज़िम अलैहिस्सलाम से सीखा था कि कठिन से कठिन परिस्थिति में भी सत्य व वास्तविकता की रक्षा करना चाहिये और इस मार्ग में कभी भी विचलित नहीं होना चाहिये। उन्होंने अपने भाई हज़रत इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम का साथ देकर इन शिक्षाओं को व्यवहारिक रूप प्रदान किया। हज़रत मासूमा अपने भाई हज़रत इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम से बहुत अधिक प्रेम करती थीं। वर्ष २०१ हिजरी क़मरी में जब हज़रत इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम को विवश होकर पवित्र नगर मदीना को छोड़कर ईरान के ख़ुरासान क्षेत्र आना पड़ा तो अपने भाई की दूरी सहन करना आपके लिए बहुत कठिन हो गया था। अतः आपने भी पवित्र नगर मदीना छोड़कर ख़ुरासान आने का निर्णय किया। चूंकि हज़रत फ़ातेमा मासूमा सलामुल्लाह अलैहा इस्लामी संस्कृति, पैग़म्बरे इस्लाम, उनके पवित्र परिजनों और अपने महान पिता की शिक्षाओं को बयान करने तथा समय के अत्याचारी के विरुद्ध


source : www.abna.ir
  132
  0
  0
امتیاز شما به این مطلب ؟

latest article

      अमेरिका में व्यापक स्तर पर जनता से ...
      सऊदी अरब में शियों पर हो रहे ...
      इस्राईली आतंक के विरोध की सज़ा
      जनता पर अत्याचारों का क्रम जारी
      ईरान के विरुद्ध अमरीकी धमकियों का ठोस ...
      तेल के संबंध में ईरानी निर्णय पर ...
      भयभीत है आले ख़लीफ़ा शासन
      इस्राईली आतंक के विरोध की सज़ा
      कैंप डेविड समझौते को निरस्त करने की ...
      इमाम हुसैन का आन्दोलन-6

 
user comment