Hindi
Thursday 22nd of August 2019
  735
  0
  0

चेहलुम, इमाम हुसैन मासूमीन की नज़र में

 

पैग़म्बरे इस्लाम (स) और इमाम हुसैन (अ)

पैग़म्बरे इस्लाम (स) ने अपने दोनों नवासों हसन (अ) और हुसैन (अ) के बारे में यह प्रसिद्ध वाक्य फ़रमायाः

_اَلْحَسَنُ وَ الْحُسَیْنُ سَیِّدا شَبابِ أَهْلِ الْجَنَّةِ _

हसन और हुसैन स्वर्ग के जवानों के सरदार हैं।(1)

 

एक दूसरी हदीस में आया है किः कुछ लोग पैग़म्बरे इस्लाम (स) के साथ एक मेहमानी में गये, आप (स) इस सारे लोगों से आगे आगे चल रहे थे। आपने रास्ते में हुसैन (अ) को देखा। पैग़म्बरे इस्लाम (स) ने चाहा कि आपकी गोद में उठा लें, लेकिन हुसैन (अ) एक तरफ़ से दूसरी तरफ़ भाग जाते थे, पैग़म्बर यह देखकर मुस्कुराए, और आपको गोद में उठा लिया, एक हाथ को आपके सर के पीछे और दूसरे हाथ को ठुड्डी के नीचे लगाया और अपने पवित्र होठों को हुसैन के होठों पर रखा और चूमा फिर फ़रमायाः

«حُسَینٌ مِنّی وَ أَنَا مِنْ حُسَین أَحَبَّ اللهُ مَنْ أَحَبَّ حُسَیناً»؛

हुसैन मुझसे हैं और मैं हुसैन से हूँ जो भी हुसैन को दोस्त रखता है, ईश्वर उसको दोस्त रखता है।(2)

 

पैग़म्बरे इस्लाम (स) की पत्नी और इमाम हुसैन (अ)

शिया और सुन्नी रिवायतों में आया है कि पैग़म्बरे इस्लाम की पत्नी श्रीमती उम्मे सलमा कहती हैं:

एक दिन पैग़म्बरे इस्लाम (स) आराम कर रहे थे कि मैंने देखा इमाम हुसैन (अ) ने प्रवेश किया, और पैग़म्बर के सीने पर बैठ गये, पैगम़्बरे इस्लाम (स) ने फ़रमायाः शाबाश मेरी आखों के नूर, शाबाश मेरे दिल के टुकड़े, जब हुसैन (अ) को पैग़म्बर के सीने पर बैठे बहुत देर हो गई तो मैंने स्वंय से कहा कि शायद पैगम़्बर को परेशानी हो रही हो, और मैं आगे बढ़ी ताकि हुसैन को आपके सीने से उतार दूँ।

पैग़म्बरे इस्लाम (स) ने फ़रमायाः उम्मे सलमा जब तक मेरा हुसैन स्वंय जब तक चाहता है उसे मेरे सीने पर बैठने दो और जान लो कि जो भी एक बाल के बराबर भी मेरे हुसैन को दुख दे वह ऐसा ही है जैसे उसने मुझे दुख दिया हो।

उम्मे सलमा कहती है: मैं घर से बाहर चली गई, और जब वापस आई और पैग़म्बर के कमरे में पहुँची मैंने देखा कि पैग़म्बर रो रहे हैं, मुझे बहुत आश्चर्य हुआ! और मैंने कहा हे अल्लाह के रसूल ईश्वर कभी आपको न रुलाए, आप क्यों दुखी हैं? मैंने देखा कि पैग़म्बर के हाथ में कोई चीज़ है, और उसको देख रहें हैं और रो रहे हैं। मैं आगे गईं तो देखा एक मुट्ठी ख़ाक़ आपके हाथ में है।

मैंने प्रश्न किया हे अल्लाह के रसूल यह कौन सी ख़ाक है जिसने आपको इतना दुखी कर दिया। पैग़म्बर ने फ़रमायाः

हे उम्मे सलमा, अभी जिब्रईल मुझ पर उतरे और कहा कि यह कर्बला की मिट्टी है, और यह मिट्टी वहां की है जहां आपका बेटा हुसैन दफ़्न होगा।

हे उम्मे सलमा, इस मिट्टी को लो और एक शीशी में रख दो, जब भी देखों कि इस ख़ाक का रंग ख़ून हो गया है, तब समझ जाना कि मेरा बेटा हुसैन शहीद कर दिया गया है।

उम्मे सलमा कहती हैं: मैंने उस ख़ाक को पैग़म्बर से ले लिया जिसमें से एक अजीब तरह की सुगंध आ रही थी, जब इमाम हुसैन (अ) ने कर्बला की तरफ़ यात्रा आरम्भ की तो मैं बहुत परेशान थी, और हर दिन उस ख़ाक को देखती थी, यहां तक कि एक दिन मैंने देखा कि पूरी ख़ाक ख़ून में बदल गई है, और मैं समझ गई इमाम हुसैन शहीद कर दिये गये हैं। इसलिये मैंने रोना शुरू कर दिया और उस दिन रात तक हुसैन (अ) पर रोती रही, उस दिन मैंने खाना नहीं खाया, यहां तक की रात हो गई और मैं दुख के साथ सो गई।

मैंने स्वप्न में पैग़म्बरे इस्लाम (स) को देख कि वह आये हैं लेकिन आपका सर और चेहरा मिट्टी से अटा है! मैंने आपके चेहरे से मिट्टी और ख़ाक को साफ करना आरम्भ कर दिया और कहने लगी, हे अल्लाह के रसूल मैं आप पर क़ुरबान, यह मिट्टी और ख़ाक कहा की ह जो आप पर लगी है?

पैग़म्बर ने फ़रमायाः हे उम्मे सलमा अभी अभी में ने अपने हुसैन को दफ़्न किया है!(3)

 

हज़रते फ़ातेमा ज़हरा (स) और इमाम हुसैन (अ)

इमाम सादिक़ (अ) से रिवायत है कि क़यामत के दिन हज़रत फ़ातेमा ज़हरा (स) प्रकाश के एक गुंबद में बैठी होंगी। उसी समय, इमाम हुसैन (अ) महशर में आएंगे, इस हालत में कि उनका कटा सर उनके हाथ में होगा, फ़ातेमा (स) इस दृश्य को देखकर चीख़ कर रोती हैं और गिर जाती है, और सारे नबी और दूसरे लोग इस दृश्य को देख कर रोने लगते हैं फिर इमाम हुसैन (अ) के हत्यारों आएंगे और उन पर मुक़द्दमा चलेगा और फिर उनको भयानक अज़ाब दिया जाएगा.... (4)

 

हज़रत अली (अ) और इमाम हुसैन (अ)

एक दिन हज़रत अली (अ) कर्बला की तरफ़ से गुज़रे और फ़रमायाः

قال على (عليه السلام): هذا... مصارع عشاق شهداء لا يسبقهم من كان قبلهم و لا يلحقهم من كان بعدهم.

यह आशिक़ों की क़त्लगाह और शहीदों के शहीद होने का स्थान पर वह शहीद जिनके बराबर ना पिछले शहीद हो सकते हैं और ना आने वाले शहीद हो सकेंगे।(5)

 

इमाम हुसैन और रोना

امام حسين عليه السلام: أنَا قَتيلُ العَبَرَةِ لايَذكُرُني مُؤمِنٌ إلاّ استَعبَرَ؛

इमाम हुसैन (अ) ने फ़रमायाः मैं आँसुओं का मारा हूँ, जो भी मोमिन मुझे याद करे, उसके आँसू जारी हो जाएंगे। (6)

 

इमाम सज्जाद (अ) और इमाम हुसैन (अ) पर गिरया

इमाम सज्जाद (अ) जिन्होंने स्वंय कर्बला के मैदान में हुसैन और उनके वफ़ादार साधियों पर होने वाले भयानक अत्याचारों और मसाएब को देखा था, आशूरा की घटना के बाद आप जब तक जीवित रहे आपने कभी भी इस दिल दहला देने वाली घटना को नहीं भुलाया, और सदैव इन शहीदों पर रोते रहते थे और जब भी आप पानी पीने चलते तो पानी को देखते ही आपकी आँखों से आँसू जारी हो जाते, जब लोगों ने आपसे इसका कारण पूछा तो आप फ़रमाते थे मैं कैसे न रोऊँ जब कि यज़ीदियों ने पानी के जानवरों और दरिंदों पर तो खोल रखा था लेकिन मेरे पिता पर बंद कर दिया और उनको प्यासा शहीद कर दिया। इमाम कहते हैं जब भी में फ़ातेमा (स) के बेटे की शहादत को याद करता हूँ मुझे रोना आ जाता है। जब लोग आपको सात्वना देते थे तो आप फ़रमाते थे

«كيف لا أبكي؟ و قد منع أبى من الماء الذى كان مطلقا للسباع والوحوش».

मैं केसे न रोऊँ जब कि मेरे पिता पर पानी बंद किया गया जब कि जानवर और दरिंदे वही पानी पी रहे थे।(7)

इमाम सज्जाद (अ) अपने पिता पर इतना रोए कि उनको इतिहास के पाँच रोने वालों में रखा गया और जब भी आप से इतना अधिक रोने के बारे में पूछ जाता तो आप कर्बला के मसाएब को याद करते और फ़रमातेः मुझे ग़ल्त न कहो, याक़ूब ने अपना एक बेटा खोया था इतना रोए थे कि ग़म से उनकी आखें सफेद हो गईं थी, जब कि उनको विश्वास था कि उनका बेटे जीवित है जब कि मैंने अपनी आँखों से देखा कि आधे दिन में मेरे परिवार के चौदह लोगों का गला काट दिया गया, फिर भी तुम कहते हो कि मैं उनके ग़म को दिल से निकाल दूँ?!(8)

आप न केवल यह कि स्वयं इमाम हुसैन (अ) के ग़म में आँसू बहाया करते थे बल्कि मोमिनों को भी आप पर रोने और अज़ादारी करने के लिये कहा करते थे

«ايما مؤمن دمعت عيناه لقتل الحسين حتى تسيل على خده بواه الله بها فى الجنة غرفا يسكنها احقابا».

हर मोमिन जो इमाम हुसैन (अ) की शहादत पर इतना रोए कि आँसू उसके गाल पर बहने लगें तो ईश्वस उसके लिये स्वर्ग में कमरे बनाता है जिसमें वह सदैव रहेगा।(9)

इमाम सज्जाद (अ) फ़रमाते हैं:

أنَا ابنُ مَنَ بَكَت عَلَيهِ مَلائِكَةُ السَّماءِ أنَا ابنُ مَن ناحَتْ عَلَيهِ الجِنُّ فِي الأرضِ و الطِّيرُ فِي الهَواءِ؛

मैं उसका बेटा हूँ जिस पर आसमान के फ़रिश्तों ने आँसू बहाए। मैं उसका बेटा हूँ जिस पर जिन्नातों ने ज़मीन पर और पक्षियों ने हवा में आँसू बहाए।(10)

 

इमाम हुसैन (अ) और इमाम बाक़िर (अ)

इमाम बाक़िर (अ) इमाम हुसैन (अ) पर आँसू बहाते थे और जो भी घर में होता था उसको भी रोने का आदेश दिया करते थे।(11)

 और आपके घर में इमाम हुसैन (अ) की मजलिस और अज़ादारी हुआ करती थी और उपस्थित होने वाले इमाम हुसैन (अ) के मुसीबतों पर एक दूसरे के सामने शोक प्रकट किया करते थे।

 

इमाम काज़िम (अ) और इमाम हुसैन (अ)

इमाम रज़ा (अ) फ़रमाते हैं:

كان ابى اذا دخل شهر المحرم لا يرى ضاحكا و كانت الكابة تغلب عليه حتى يمضى منه عشرة ايام، فاذا كان اليوم العاشر كان ذلك اليوم يوم مصيبته و حزنه و بكائه...

मेरे पिता इमाम मूसा काज़िम (अ) की रीत यह थी कि जब भी मोहर्रम आता था हमेशा दुखी रहते थे यहां तक कि आशूरा के दस दिन पूरे हो जाए, आशूरा का दिन उनके रोने और मातम का दिन था... और आप फ़रमाते थे:

 «هو اليوم الذى قتل فيه الحسين. (12)

 

इमाम रज़ा (अ) और इमाम हुसैन

इमाम रज़ा (अ) ने फ़रमायाः

إن بَكَيتَ عَلَى الحُسَينِ حَتّى تَصيرَ دُموعُكَ عَلى خدَّيكَ غَفَرَاللّه ُ لَكَ كُلَّ ذَنبٍ أذنَبتَهُ

अगर तुम हुसैन (अ) पर रोओ, इस प्रकार कि तुम्हारे आँसू तुम्हारे गालों पर जारी हो जाएं, तो ईश्वर तुम्हारे सारे पापों को क्षमा कर देता है।(13)

 

इमाम रज़ा (अ) ने फ़रमायाः मोहर्रम वह महीना है कि जिसमें जाहेलीयत के ज़माने में लोग युद्ध को वर्जित समझते थे, लेकिन शत्रुओं ने इस महीने में हमारा रक्त बहाया और हमारे सम्मान को ठेस पहुँचाई, और हमारी संतान को बंदी बनाया और हमारे ख़ैमों में आग लगाई, हमारी सम्पत्ति लूटी और हमारे हक़ में पैग़म्बर (स) के सम्मान का ख़याल नहीं किया।(14)

«ان يوم الحسين اقرح جفوننا و أسبل دموعنا و أذل عزيزنا بأرض كربلا.... على مثل الحسين (عليه السلام) فليبك الباكون، فان البكاء عليه يحط الذنوب العظام

इमाम हुसैन (अ) की हत्या ने हमारे आँसुओं को जारी कर दिया और हमारी आँखों की पलकों को घायल कर दिया और कर्बला में हमारे सम्मानित का अपमान किया.... रोने वालों को हुसैन पर रोना चाहिये, उन पर रोना बड़े पापों को समाप्त कर देता है।(15)

 

इमाम रज़ा (अ) ने रय्यान बिन शबीब से फ़रमायाः

«ان كنت باكيا لشى ء فابك للحسين بن على فانه ذبح كما يذبح الكبش و قتل معه من أهل بيته ثمانية عشر رجلا ما لهم فى الارض شبيهون...».

अगर किसी चीज़ पर रोना चाहो तो हुसैन (अ) पर गिरया करो क्योंकि उनकी गर्दन को भेड़ की गर्दन की तरह काट दिया और उनके साथ उनके अहलेबैत (परिवार वाले) के अट्ठारह मर्द शहीद हुए जिनके जैसा दुनिया में कोई नहीं था।

फिर इबने शबीब से फ़रमायाः अगर चाहते हो कि स्वर्ग में हमारे साथ ऊँटे दर्जे पर रहो, तो दुखी रहो हमारे दुख में और प्रसन्न रहों हमारी ख़ुशी में।(16)

 

इमाम महदी (अ) और इमाम हुसैन (अ)

इमाम महदी (अ) पवित्र ज़ियारते नाहिया में फ़रमाते हैं:

 لأَندُبَنَّكَ صَباحا و مَساءً و لأَبكِيَنَّ عَلَيكَ بَدَلَ الدُّمُوعِ دَما؛

मैं हर सुबह शाम आप पर रोता हूँ और आपकी मुसीबत पर आँसू की जगह ख़ून रोता हूँ।(17)

इमाम हुसैन (अ) पर रोने के बारे में आने वाली बहुत सी रिवायतों से पता चलता है कि इमाम हुसैन (अ) पर इस संसार की सारी चीज़ें रोती हैं

ज़मीन रोती है आसमान रोता है

ग़मे हुसैन में सारा जहान रोता है।

 

***********

(1)    सुनने तिरमिज़ी, जिल्द 5, पेज 426

(2)    सुनने तिरमिज़ी, जिल्द 5, पेज 424, अलइरशाद शेख़ मुफ़ीद, जिल्द 2, पेज 127

(3)    तोहफ़तुज़्ज़ाएर, मरहूम मजलिसी, पेज 168

(4)    सवाबुल आमाल, जलाउल उयून के हवाले से जिल्द 1, पेज 227

(5)    अबसारुल ऐन फ़ी अनसारिल हुसैन, पेज 22, बिहरुल अनवार जिल्द 44, पेज 298

(6)    बिहारुल अनवार जिल्द 44, पेज 284

(7)    बिहारुल अनवार जिल्द 46, पेज 108

(8)    अमाली शेख़ सदूक़, मजलिस 29, पेज 121

(9)    तफ़्सीरे क़ुम्मी पेज 616

(10)    मनाक़िबे आले अबी तालिब, जिल्द 3 पेज 305

(11)    वसाएलुश्शिया जिल्द 10, पेज 398

(12)    बिहारुल अनवार जिल्द 44, पेज 293

(13)    बिहारुल अनवार जिल्द 44, पेज 286

(14)    बिहारुल अनवार जिल्द 44, पेज 283

(15)    अमाली शेख़ सदूक़, जिल्द 1, पेज 225

(16)    वसाएलुश्शिया जिल्द 14, पेज 502

(17)    बिहारुल अनवार जिल्द 101, पेज 238

 

सैय्यद ताजदार हुसैन ज़ैदी

 

  735
  0
  0
امتیاز شما به این مطلب ؟

latest article

      गुनाहगार माता -पिता
      एतेमाद व सबाते क़दम
      अज़ादारी और इसका फ़लसफ़ा
      मुफ़स्सेरीन और उलामा की नज़र में ...
      हज़रते क़ासिम बिन इमाम हसन अ स
      अब्बासी हुकूमत का, इमाम हसन असकरी अ.स. ...
      दर्द नाक हादसों का फ़लसफ़ा
      आशूर के दिन पूरी दुनिया में मनाया गया ...
      प्रकाशमयी चेहरा “जौन हबशी”
      हज़रते क़ासिम बिन इमाम हसन अ स

 
user comment